Press "Enter" to skip to content

ज्वालामुखी के टूटने के बाद तीन मंजिला ऊंचा पत्थर तेजी से नीचे आया




ला पाल्माः ज्वालामुखी के टूटने के बाद दो इलाकों से जारी लावा प्रवाह की वजह से समुद्र के दो इलाको में अलग अलग जमीन बनती जा रही है।




कुछ दिन पहले ही इस ज्वालामुखी पर्वत का एक हिस्सा ही पूरी तरह ढह गया था। इससे अधिक तरल अवस्था में लावा बाहर निकल रहा है। इतने दिन बीत जाने के बाद भी लावा प्रवाह के कम होने के संकेत नहीं मिल रहे हैं।

जब कभी इसके धीमा पड़ने का अनुमान लगाया जाता है, लावा का प्रवाह फिर से तेज हो जाता है। इसके बीच ही इसकी गतिविधियों पर नजर रखने वालों ने एक बहुत बड़े आकार के पत्थर को तेजी से उछलते और फिर काफी तेज गति से नीचे लूढ़कते हुए भी देखा है।

अनुमान लगाया जा रहा है कि यह लावा का पत्थर किसी तीन मंजिला भवन के आकार का था। इससे पूर्व कभी भी इतने बड़े आकार के पत्थर को लावा के तौर पर बाहर उछलकर आते हुए नहीं देखा गया था।

इस वजह से वैज्ञानिक अब यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर इस ज्वालामुखी के अंदर अभी क्या चल रहा है। इस बीच वहां छोटे छोटे भूंकप के झटकों का आना जारी है।




पिछले तीन सप्ताह से ऐसा होता आ रहा है। रविवार के दिन भी वहां करीब 21 ऐसे भूकंप के झटके महसूस किये गये हैं।

ज्वालामुखी के टूटने के बाद भूकंप के अधिक झटके

इसकी वजह से माजो, फूयेनकेलीनटे और एल पासो के इलाके में थरथराहट महसूस किया गया है। स्पेनिश इंस्टिट्यूट ऑफ जिओलॉजी ने बताया है कि कुंबरे वियेजा ज्वालामुखी के टूटने के बाद तीन मंजिला भवन के आकार के लावा के पत्थर को निकलते देखा गया है।

स्थिति की गंभीरता को देखते हुए अब स्पेन की नौसेना को वहां काम में लगाया जा रहा है। इन नौसैनिकों के जिम्मे वहां एकत्रित होने वाले राख को हटाना है। इस ला पाल्मा द्वीप के अधिकांश इलाकों में यह राख भर गया है, जो कृषि और जीवन के लिहाज से खतरनाक है।

रविवार के दिन नये इलाके से हो रहे लावा प्रवाह की वजह से टोटोक्यू गांव में शेष बचे कुछ अन्य मकान भी ध्वस्त हो गये हैं। अब तक इस लावा प्रवाह की वजह से वहां के 1186 भवन ध्वस्त हो चुके हैं । इन सभी इलाकों को पहले ही खाली करा लिया गया था।

लावा निकलने के स्थान के ठीक ऊपर बिजली भी चमकते देखा गया है। जिसके बारे में वैज्ञानिक मानते हैं कि ज्वालामुखी से निकलते राख के टकराने से भी कई बार विद्युती आवेश पैदा हो जाता है। यही विद्युतीय आवेश वहां बिजली चमकने का प्रभाव पैदा करता है।



More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: