fbpx Press "Enter" to skip to content

चुनावी हिंसा में मारे गये भाजपा समर्थक के परिवार को होमगार्ड की नौकरी

कूचबिहारः चुनावी हिंसा में शीतलकूची विधानसभा में एक भाजपा समर्थक आनंद वर्मन

की मौत हो गयी थी। तीसरी बार सरकार का गठन करते ही ममता बनर्जी ने अपने फैसले

के तहत इस किस्म की हिंसा में मारे गये लोगों के परिवारों को सरकारी नौकरी देने के

अपने वादे को पूरा करना प्रारंभ कर दिया है। इसके तहत शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस के

जिलाध्यक्ष पार्थप्रतिम राय खुद आनंद वर्मन की मां बासंती वर्मन और बड़े भाई गौतम

वर्मन को यह सूचना दे गये हैं। बता दें कि चौथे चरण के मतदान के दौरान 10 अप्रैल को

गोली चलने से आनंद वर्मन की मौत हो गयी थी। उनके बारे में दावा किया गया था कि वह

भाजपा समर्थक थे। इसी दिन सीआईएसएफ की गोली से वहां और चार लोगों की मौत हुई

थी। यह सभी लोग मतदाता थे। चुनावी प्रतिबंधों की वजह से ममता उस समय इस

परिवार से मिलने नहीं आ पायी थी। बाद में इस परिवार के लोगों के साथ उन्होंने बात

चीत की थी। गुरुवार को मुख्यमंत्री की हैसियत से जो कुछ महत्वपूर्ण फैसले ममता बनर्जी

ने लिये, उसके तहत गोली चालन में मारे गये सभी पांच लोगों के परिवार के एक एक

व्यक्ति को होमगार्ड की नौकरी दी जाएगी। इस एलान के बाद आनंद वर्मन के परिवार को

भी इसकी जानकारी दी गयी थी।

चुनावी हिंसा में मारे गये हरेक के परिवार को यह लाभ

इस संबंध में बाद में अपने ही घर में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में पार्थ प्रतिम राय ने कहा

कि इस फैसले से पूरे राज्य को समझ लेना चाहिए कि मुख्यमंत्री किसी दल का नहीं होता

है वह पूरे राज्य की जनता के प्रति जिम्मेदार होता है। इसी वजह से ममता बनर्जी ने अपने

फैसले का लाभ सभी को बराबर देने की पहल कर दी है। इसी तरह सीआइएसएफ की गोली

से जो चार लोग मारे गये थे, उनके परिवार के एक एक व्यक्ति को भी यही लाभ प्रदान

किया जाएगा क्योंकि यह राज्य सरकार का फैसला है। यह फैसला राज्य के हर नागरिक

पर समान रुप से लागू होगा।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from कामMore posts in काम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »
More from पश्चिम बंगालMore posts in पश्चिम बंगाल »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: