किताबी ज्ञान के साथ बच्चों का बौद्धिक व शारीरिक विकास जरूरी

हृष्ट-पुष्ट बच्चा ही झारखंड का बेहतर भविष्य बना सकेगा।  

Spread the love
किताबी ज्ञान के साथ-साथ बच्चों का बौद्धिक व शारीरिक विकास भी जरुरी है। यह कहना है राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास का।
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि किताबी ज्ञान के साथ-साथ बच्चों का बौद्धिक व शारीरिक विकास भी जरूरी है।
खेलकूद से बच्चों का संपूर्ण विकास होता है। सभी स्कूल बच्चों के खेलकूद पर
भी विशेष ध्यान दे। पसीना बहने पर ही बच्चा मजबूत होता है। हृष्ट-पुष्ट
बच्चा ही झारखंड का बेहतर भविष्य बना सकेगा।  रघुवर दास सरला बिड़ला
पब्लिक स्कूल में सीबीएसइ नेशनल चेस टूर्नामेंट 2017 के उदघाटन के
बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने
भी शिक्षा के साथ बच्चों के चरित्र निर्माण पर बल दिया। उन्होंने कहा था
कि शिक्षा ऐसी होनी चाहिए कि बच्चों की बुद्धि का विकास हो।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कल झारखंड स्थापना के 17 वर्ष हो रहे हैं।
झारखंड युवा हो रहा है। युवा झारखंड होने से लोगों में उमंग-उत्साह है।
हमें मिलकर झारखंड को समृद्ध बनाना है। राज्य सरकार शिक्षा पर जोर
दे रही है। कई यूनिवर्सिटी बनायी जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेहतर
भविष्य के निर्माण में शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण है। शिक्षकों की यह
जिम्मेवारी ईमानदारी से निभानी है। तभी शिक्षित राष्ट्र-शिक्षित राज्य बन सकेगा। कार्यक्रम में स्कूल के बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम पेश किये। इस दौरान स्कूल के प्रशासनिक प्रमुख  प्रदीप वर्मा, प्राचार्या   परमजीत कौर, ऑल झारखंड चेस एसोसिएशन के सीइओ  प्रीतम सिंह, सीबीएसइ के चीफ ऑब्जर्वर आरएस तिवारी समेत अन्य लोग उपस्थित थे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE