प्रद्युम्न के पिता ने खटखटाया SC का दरवाजा, रेयान के मालिकों पर लटकी तलवार

रायन इंटरनेशनल ग्रुप के ट्रस्टी ग्रेस और ऑगस्टिन पींटो सेबी के रडार पर

0 542
देश भर में रायन इंटरनेशनल के नाम से स्कूल चेनचलाने वाली कंपनी रायन इंटरनेशनल ग्रुप के मालिक
ग्रेस और ऑगस्टिन पींटो हत्या के बाद  खामियों के चलते जांच के घेरे में हैं।

प्रद्युम्न के पिता ने देश की सबसे बड़ी अदालत का

दरवाजा ख़टखटाया है। वरुण ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट

में याचिका दायर कर सीबीआई जांच की गुहार लगाई

जिस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार,

सीबीआई, हरियाणा सरकार, प्रदेश के डीजीपी और

सीबीएससी को नोटिस जारी कर तीन हफ्ते में जवाब

मांगा है। प्रद्युम्न की हत्या के लिए जिम्मेदार कुप्रबंधन

को लेकर अभी उन पर आरोप साबित होने हैं, लेकिन

सेबी की ताजा रिपोर्ट में जो खुलासा हुआ है, वह उन्हें

कानून के नए शिकंजे में जरूर फंसा सकता है। सेबी के

इन दस्तावेजों के अनुसार, रायन इंटरनेशनल ग्रुप के

ट्रस्टी ग्रेस पिंटो और आगस्टीन पिंटो ने एक संदिग्ध

कंपनी में मात्र 50 लाख रुपये निवेश कर अचानक 30

करोड़ रुपये का लाभ कमाया, जबकि कंपनी खुद मामूली

नफे में रही। सेबी की रिपोर्ट के अनुसार, ग्रेस और

आगस्टीन पिंटो ने मुंबई की एक फाइनेंस कंपनी

कमलाक्षी लिमिटेड में निवेश कर रहस्यात्मक तरीके से

बेहद कम समय में 32 करोड़ रुपये कमाए। गौरतलब है कि

सेबी ने स्टॉक मार्केट में शेयरों की कीमतों के साथ छेड़छाड़

करने को लेकर कंपनी पर प्रतिबंध लगा दिया था।

कंपनी ने अपने निवेशकों की तरफ से स्टॉक मार्केट

से चुनी हुई उस कंपनी के शेयर खरीदे जो स्टॉक मार्केट

में लेन-देन नहीं कर रही थी और उस कंपनी के शेयरसिर्फ प्रेफर्ड व्यक्तियों को ही बेचे जा सकते थे। 

सेबी ने अपनी जांच में पाया कि कंपनी ने अपनी तीन साल की वार्षिक रिपोर्ट में भी प्रॉफिट को कम दिखायाथा। फिलहाल सेबी ने कंपनी के स्टॉक मार्केट में ट्रेड करने पर रोक लगा दी है और मामला इनकम टैक्स विभाग को सौंप दिया है। इस बीच रोक लगने के बाद कामालक्ष्मी ने भी अपना बदल कर ग्रोमोट्रेड एंड कंसलटेंट रख लिया है।

You might also like More from author

Comments

Loading...