Press "Enter" to skip to content

देश के उत्तर में हिमालय पर्वतमाला पर हो रही है बर्फवारी

Spread the love






  • रांची सहित झारखंड का तापमान गिरेगा
  • मौसम वैज्ञानिकों ने दी है पूर्व चेतावनी
  • अचानक पारा गिरने से कई परेशानी
  • इसके बाद जारी रहेगा ठंड का असर
संवाददाता

रांची: देश के उत्तर के भागों में बर्फबारी का असर अगले दो-तीन दिनों झारखंड में भी देखने को मिलेगा।

मौसम पूर्वानुमान में सत्ताईस नवंबर से राज्य के विभिन्न हिस्सों में इस बदलाव का असर देखने को मिलेगा।

रांची में ठंड के साथ कनकनी बढ़ेगी। तापमान में कमी आएगी और उत्तर से आने वाली सर्द हवाएं से ठंड बढ़ जाएगी।

ठंड बढ़ने के कारण सुबह के दौरान हल्की धूंध के कारण कनकनी बढ़ेगी,जिससे लोगों को परेशानी होगी।

राजधानी रांची का न्यूनतम तापमान तेरह डिग्री सेल्सियस और कांके का न्यूनतम तापमान 11 डिग्री से नीचे आ गया है।

मौसम वैज्ञानिकों ने तापमान में अचानक आने वाली इस गिरावट के बारे में लोगों को आगाह कर दिया है।

इसका असली कारण देश के उत्तर के हिस्सों में होने वाली बर्फवारी है। जिससे वहा ठंडी होती जा रही है।

यह सतर्कता इसलिए भी दी जाती है क्योंकि अचानक तापमान के गिर जाने से लोगों की सेहत पर इसका

खराब असर पड़ना स्वाभाविक है।

खास तौर पर अधिक उम्र के लोगों के लिए यह अचानक की ठंड कई किस्म की परेशानियां पैदा कर सकती हैं।

वैसे समझा जाता है कि हिमालय की बर्फवारी से जब इस पठारी क्षेत्र का तापमान एक बार गिरेगा

तो आने वाले दिनों में न्यूनतम तापमान का यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा।

देश के उत्तर में बर्फवारी के अलावा भी रांची में इस समय गिरता है पारा

पहले भी रांची और आस पास के इलाकों में इस मौसम में तापमान के नीचे आने का पूर्व इतिहास रहा है।

हाल के दिनों में शहर के विस्तार और शहरीकरण की वजह से इसमें काफी कुछ तब्दीली आयी है।

इसके बाद भी ठंड के मौसम में दिसंबर और जनवरी माह में यहां का ठंड लोगों को परेशान करने वाला बन जाता है।

अलबत्ता इस दौरान किन्हीं कारणों से अगर कुहासा का प्रभाव हुआ तो दिन के उजाले में भी लोग ठंड से परेशान हो

जाते हैं।

इसलिए मौसम विज्ञान की इस पूर्व चेतावनी से लोगों को इस चुनौती का सामना करने का लिए पूर्व तैयारी करने का

पर्याप्त मौका मिल जाएगा। दूसरी तरफ चुनावी व्यस्तताओं की वजह से अब तक प्रशासनिक स्तर पर विभिन्न

चौक चौराहों पर अलाव जलाने की व्यवस्था नहीं की गयी है।

अनुमान है कि अचानक तापमान गिरने के बाद इसका भी प्रबंध प्रशासनिक फैसले के तहत कर दिया जाएगा।



More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from मौसमMore posts in मौसम »
More from रांचीMore posts in रांची »

One Comment

Leave a Reply