fbpx Press "Enter" to skip to content

तेल के कुएं में लगी भीषण आग दूर गांवों तक फैली

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : तेल के कुएं में लगी भीषण आग पर अब तक (रविवार) काबू नहीं पाया जा

सका है। इस कुंए में आग पिछले 18 दिन से गैस के अनियंत्रित रिसाव के कारण लगी थी।

अब इस मामले में ऑयल इंडिया लिमिटेड (ओआईएल) ने दो कर्मचारियों को लापरवाही

बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया है। कंपनी के एक अधिकारी ने बताया कि, कंपनी

एक आतंरिक जांच कर रही है और हमने दो कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है जिन पर

कुएं की जिम्मेदारी थी। जांच समाप्त होने के बाद उनकी भूमिका पर निर्णय लिया

जाएगा। इससे पहले ऑयल इंडिया लिमिटेड (ओआईएल) के अध्यक्ष और एमडी सुशील

चंद्र मिश्रा ने कहा कि पांच सदस्यीय एक जांच समिति का गठन किया गया है और प्रथम

दृष्टया मानवीय भूल का कोई भी साक्ष्य मिलने पर कंपनी के कर्मचारियों पर कार्रवाई की

जाएगी। मिश्रा ने कहा कि कंपनी ने गैस के कुएं के निजी संचालक जॉन एनर्जी प्राइवेट

लिमिटेड को भी कारण बताओ नोटिस जारी किया है। ऑयल इंडिया की रिपोर्ट के

अनुसार, रिसाव शुरू होने के बाद 1200 परिवारों के 5,500 लोगों को तीन राहत शिविरों में

भेजा गया था। ऑयल इंडिया के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि असम कंपनी गैस कुएं

में आग को नियंत्रित करने की पूरी कोशिश कर रही है लेकिन स्थिति अभी भी अनियंत्रित

है।

दूसरी ओर,असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने तिनसुकिया जिले में ऑयल इंडिया

लिमिटेड (ओआईएल) के गैस कुएं में आग लगने के मामले की उच्च स्तरीय जांच का

बृहस्पतिवार को आदेश दिया। गैस कुएं में आग लगने से दो लोगों की मौत हो गयी थी।

मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ‘पीटीआई भाषा‘ को बताया

कि अतिरिक्त मुख्य सचिव मनिंदर सिंह जांच करेंगे और यह रिपोर्ट 18 दिन में जमा की

जाएगी।

तेल के कुएं की जांच 18 दिन में पूरी करें

उन्होंने कहा, ‘‘कंपनी के कुछ अधिकारियों और उसके निजी कुआं संचालक पर लगे

लापरवाही के आरोपों की भी जांच की जाएगी। यह पता लगाया जाएगा कि इस त्रासदी के

लिए कौन उत्तरदायी है।’’ सीएमओ के अधिकारी ने बताया कि जांच में यह पता लगाया

जाएगा कि यह आग कैसे लगी और भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं को रोकने के लिए

क्या कदम उठाए जाने चाहिए। असम के तिनसुकिया जिले में सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम

‘ऑयल इंडिया’ के बागजान कुएं में मंगलवार दोपहर को भीषण आग लग गयी थी। कुएं

के पास पानी वाले क्षेत्र के निकट कंपनी के दो दमकलकर्मी मृत पाए गए थे। कुएं से पिछले

18 दिनों से गैस का अनियंत्रित रिसाव हो रहा है।यह उल्लेख है कि कि कुऐं में पिछले 18

दिनों से आग फैली हुई है। इसका दायरा काफी बढ़ गया है और करीब एक किलोमीटर के

दायरे में सब कुछ खाक हो गया है। असम में तेल के कुएं में लगी आग अब भयानक रूप से

गांवों में भी फैली भीषण आग की लपटें थे जिनमें से 4 की मौत हो गयी,18 लोग जख्मी

और, पांच लोग अभी भी लापता हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from असमMore posts in असम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

One Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: