fbpx Press "Enter" to skip to content

स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की अवधि को विस्तारित करते हुए 13 मई तक बढ़ाने का निर्णय

  • ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण का विस्तार न हो, इसलिए सरकार ने बढ़ाये कदम
  • बाहर से आने वालों क्वारंटाइन से संबंधित निर्देश 31 मई तक प्रभावी रहेगा

गिरिडीहः स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की अवधि पूरे राज्य में विस्तारित कर दी गयी है।

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार के रोकथाम तथा नियंत्रण के मद्देनजर

राज्य सरकार द्वारा स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह को 13 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है।

तथा बाहर से आने वाले प्रवासी मजदूरों के क्वारंटाइन से संबंधित जारी दिशा निर्देश 31

मई तक प्रभावी रहेगा।उक्त परिपेक्ष्य में उपायुक्त-सह-जिला दंडाधिकारी, गिरिडीह, श्री

राहुल कुमार सिन्हा ने इससे संबंधित दिशा निर्देश जारी किया है। झारखंड सरकार के

आपदा प्रबंधन विभाग के द्वारा जारी आदेश के अनुसार अब देश के दूसरे प्रदेशों से

झारखंड/गिरिडीह आने वाले सभी लोगों का कोविड टेस्टव अनिवार्य कर दिया गया है।

इसके अलावा उन्हें सात दिनों तक क्वारंटाइन में रहना होगा। उपायुक्त द्वारा इससे

संबंधित दिशा निर्देश निर्गत किए गए हैं। गिरिडीह जिले में आने वाले सभी प्रवासी

मजदूरों का कोविड जांच रैपिड एंटीजन टेस्ट किया जाएगा। प्रखंड स्तर पर संस्थागत

क्वॉरेंटाइन सेंटर का संचालन तत्काल प्रभाव से किया जाएगा जिसमें वैसे प्रवासी मजदूर

जिनका कोविड जांच नेगेटिव होता है, उन्हें उक्त क्वॉरेंटाइन सेंटर में 7 दिनों तक

क्वॉरेंटाइन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि क्वॉरेंटाइन किए गए प्रवासी मजदूरों को उनके

घर जाने देने के पूर्व उनका पुनः कोविड टेस्ट रैपिड एंटीजन टेस्ट किया जाएगा। उपरोक्त

दोनों कोविड टेस्ट में से पॉज़िटिव पाए जाने वाले मजदूरों को स्वास्थ्य एवं परिवार

कल्याण विभाग झारखंड रांची द्वारा पॉजिटिव मामलों के प्रबंधन हेतु अपनाई जाने वाले

प्रक्रिया के तहत कार्रवाई की जाएगी। प्रवासी मजदूरों का जिले में आगमन के साथ ही

उनका ट्रैकिंग करने, कोविड जांच करने एवं संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर की स्थापना से

संबंधित कार्य किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सभी अनुमंडल पदाधिकारी:- जिले एवं

प्रखंडों के एंट्री पॉइंट में चेक पोस्ट अधिष्ठापन करते हुए 24×7 कर्मियों की प्रतिनियुक्ति

करेंगे।

स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह में हर अधिकारी की जिम्मेदारी तय

प्रतिनियुक्त कर्मियों को निर्देशित करेंगे कि वे आने वाले सभी प्रवासी मजदूरों का पूर्ण

ब्यौरा का संधारण करेंगे तथा प्रखंडों में बनाए गए क्वॉरेंटाइन सेंटर की जानकारी देंगे।

अनुमंडल पदाधिकारी, बगोदर-सरिया, हजारीबाग रोड रेलवे स्टेशन में एवं अनुमंडल

पदाधिकारी, डुमरी पारसनाथ रेलवे स्टेशन में भी कर्मियों की प्रतिनियुक्ति कर आने वाले

प्रवासी मजदूरों का डाटा संकलन का कार्य करेंगे। सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी अपने-

अपने प्रखंड में संस्थागत क्वॉरेंटाइन सेंटर की अधिष्ठापन तत्काल प्रभाव से करेंगे। साथ

ही क्वॉरेंटाइन सेंटर में रहने वाले मजदूरों के द्वारा क्वॉरेंटाइन नियमों का अनुपालन

कराने हेतु आवश्यकतानुसार कर्मियों की प्रतिनियुक्ति भी करेंगे। प्रखंड स्तर पर बनाए

गए संस्थागत क्वॉरेंटाइन सेंटर में 24×7 कर्मी की प्रतिनियुक्ति करेंगे। जो सभी प्रवासी

मजदूरों का उनके आने के साथ ही कोविड टेस्ट रैपिड एंटीजन टेस्ट करेंगे। नेगेटिव रिपोर्ट

वाले मजदूरों को क्वॉरेंटाइन में रहने की सलाह देंगे। क्वारंटाइन सेंटर में 7 दिन पूर्ण करने

वाले मजदूरों का पुनः टेस्ट करेंगे एवं वैसे मजदूर जिनका रिपोर्ट नेगेटिव आता है तो उन्हें

उनके घर जाने की अनुमति देंगे। गौरतलब है कि जो पाबंदियां अभी लागू हैं वे जारी

रहेंगी। देश के कई राज्यों में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए आंशिक लॉकडाउन

लागू है। ऐसी स्थिति में अन्य राज्यों में काम कर रहे झारखंड के श्रमिक वापस आयेंगे।

उनके वापस आने से राज्य के ग्रामीण इलाकों में कोरोना के मामलों में ईजाफा होने के

आसार हैं। कोरोना के मामलों को नियंत्रित करने हेतु राज्य सरकार द्वारा ऐसे श्रमिकों के

वापस आने पर अपना कोरोना जाँच अनिवार्य रूप से कराने का निर्देश दिया गया है। साथ

ही प्रवासी श्रमिकों के कोरोना नेगेटिव होने पर उन्हें सात दिनों तक होम क्वारंटाइन में

रहना होगा। उन्हें जिला प्रशासन की ओर से सुविधाएं उपलब्ध करायी जायेंगी।

मजदूरों को भेजने से पहले उनकी कोरोना परीक्षण होगा

श्रमिकों को घर भेजने से पहले उनका रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया जाएगा। सरकार ने 6

मई की तय अवधि समाप्त होने से पहले बुधवार को नई गाइडलाइन जारी करते हुए कहा

है कि ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण का विस्तार न हो, इसलिए सरकार ने ये कदम बढ़ाये हैं।

राज्यवासियों की सुरक्षा के प्रति सरकार पूरी तरह संवेदनशील है। राज्य सरकार ने प्रवासी

श्रमिक बंधुओं को अपना भरपूर सहयोग देने की अपील की है। साथ ही उन्हें झारखंड

वापस लौटने पर अपनी कोरोना जांच अवश्य कराने की अपील की है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from गिरिडीहMore posts in गिरिडीह »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: