मोदी की पहली स्पीच बाजार को नहीं संभाल पाई बजट के बाद

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली: एक बार फिर भारतीय शेयर मार्केट मंगलवार सुबह लाला निशान पर खुलने के साथ लगातार दिनभर लाल निशान पर काम करता रहा है. हालांकि बाजार को उम्मीद थी कि रिजर्व बैंक द्वारा ब्याज दर कम किए जाने की चर्चा के बीच बाजार मजबूत रहेगा. लेकिन आधे दिन के कारोबार में बीएसई (BSE) सेंसेक्स लगभग 60 अंक नीचे कारोबार करता नजर आया. वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर प्रमुख निफ्टी फिप्टी लगभग 20 अंकों की गिरावट के साथ कारोबार करता रहा.

हालांकि रिजर्व बैंक से कटौती की उम्मीद के बावजूद शेयर मार्केट का लाल निशान पर बने रहने के बाद उम्मीद थी कि लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर पीएम नरेन्द्र मोदी की स्पीच के साथ बाजार हरे निशान में लौट आएगा. लगभग एक घंटे से अधिक समय तक लोकसभा में चली पीएम की स्पीच के दौरान शेयर बाजार लाल निशान पर बना रहा. इस दौरान बाजार ने प्रधानमंत्री के किसी भी बयान पर अपने रुख में बदलाव नहीं किया. नतीजा, शेयर मार्केट ने दिन के कारोबार को लाल निशान में ही पर खत्म करना पड़ा.

दिन के कारोबार को खत्म करते हुए बीएसई प्रमुख बेंचमार्क सेंसेक्स 104 अंको की गिरावट के साथ 28,335 पर और एनएसीई प्रमुख इंडेक्स निफ्टी-फिफ्टी 33 अंकों की गिरावट के साथ 8,768 के स्तर पर बंद हुआ  गौरतलब है कि वार्षिक बजट पेश होने के बाद शेयर बाजार ने लगभग 400 अंकों की बढ़त के साथ केन्द्र सरकार की नीतियों का स्वागत किया था. वहीं अब ब्याज दरों के कम होने की उम्मीद पर निवेशक बाजार में पैसा लगा रहे हैं. इसके चलते आज से पहले लगातार चार कारोबारी दिनों में शेयर बाजार मजबूती के साथ लगातार हरे निशान में बंद हो रहा था.

इस हफ्ते की शुरुआत में जहां शेयर बाजार सोमवार को हरे निशान में बंद हुआ वहीं मंगलवार को कारोबार की शुरुआत सपाट हुई और शुरुआत से ही मार्केट के प्रमुख इंडीकेटर्स लाल निशान पर कारोबार कर रहे. सोमवार को बीएसई पर प्रमुख सेंस्टिव इंडेक्स सेंसेक्स 28,413 के स्तर पर बंद हुआ था. वहीं एनएसई सेंस्टिव इंडेक्स निफ्टी भी हरे निशान पर 8,784 के स्तर पर बंद हुआ.
दिन के 12 बजे, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्पीच की शुरुआत के वक्त बीएसई सेंसेक्स 28,380 और निफ्टी फिप्टी 8,785 के स्तर पर कारोबार कर रहा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.