fbpx Press "Enter" to skip to content

हजारीबाग जेपीएससी में तीन तीन बार इंटरव्यू के बाद चौथी बार मिली सफलता

  • स्नातकोत्तर परीक्षा खोरठा में गोल्ड मेडल किया था हासिल
  • तीन-तीन नदियां पारकर पढ़ाई करने जाते थे महादेव बन गए कलेक्टर
  •  माता पढ़ी-लिखी नहीं रहने के बाद भी बेटा को बनाई प्रशासनिक अधिकारी

संवाददाता

हजारीबाग : हजारीबाग निरंतर व नियमित प्रयास किया जाए तो सफलता अवश्य मिलती

है भले ही उसके लिए समय का अंतराल कुछ अधिक हो जाए लेकिन धैर्य पूर्वक कार्य करने

से लक्ष्य की प्राप्ति सुनिश्चित होती है । ये सिद्ध कर दिखाया है बड़कागांव प्रखंड के

पडरिया निवासी होमगार्ड लालजी महतो के पुत्र महादेव महतो जो धैर्य पूर्वक निरंतर

प्रयास किया और तीन तीन बार जेपीएससी परीक्षा में इंटरव्यू तक गया लेकिन अंतत:

चौथी बार छठी जेपीएससी में 58 स्थान लाकर सफलता हासिल की औऱ प्रशासनिक

अधिकारी बनने का सपना पूरा किया इस बीच अपने जीवन काल में वह काफी संघर्ष किया

पढ़ाई के शुरूआती दौर में तीन – तीन नदियों हहारो, चोरका एवं बड़की नदी को लांघ कर

बड़कागांव पहुंचता था और अपनी पढ़ाई करता था। जिसके बाद 1994 ईस्वी में मैट्रिक की

परीक्षा पास की ,1996 में इंटर , 2000 में स्नातक, 2006 में खोरठा से एम ए पास कर

गोल्ड मेडल हासिल किया, वही दूसरी बार 2007 में एमकॉम, 2008 में नेट और 2018 में

एनडीए की परीक्षा पास की, दूसरी ओर द्वितीय जेपीएससी 2008 में तृतीय जेपीएससी

2012 में और चौथी जेपीएससी 2016 में इंटरव्यू तक पहुंचा लेकिन सफलता हाथ नहीं

लगी। बावजूद हार ना मानकर अपने धैर्य को नहीं खोया और निरंतर प्रयास करते रहा

जिसके बाद छठी जेपीएससी 2020 में सफलता हासिल कर प्रशासनिक पदाधिकारी बनने

का सपना पूरा किया इस बीच 2007 से 2019 तक कस्तूरबा आवासीय विद्यालय

बड़कागांव में लेखपाल पद पर एवं 2019 मार्च से अब तक हजारीबाग मेडिकल कॉलेज

सदर अस्पताल में वित्त एवं स्टाफ सलाहकार के पद पर कार्य कर अपनी पढ़ाई करते रहे ,

जिसमें इनका छोटा भाई सत्यदेव कुमार महतो अपनी पढ़ाई बीच में ही रोककर

सीआरपीएफ की नौकरी ज्वाइन की और इनका सहयोग किया।

हजारीबाग के महादेव महतो ने अपने संदेश में कहा कि…

मैं ग्रामीण सुदूरवर्ती इलाके से हूं इसलिए मेरी प्राथमिकता ग्रामीण क्षेत्रों का सर्वांगीण

विकास करना होगा आगे उन्होंने कहा कि समय अगर बचेगा तो पूर्व की भांति मैं कोचिंग

में जाकर मुफ्त में अभ्यर्थियों को पढ़ाने का काम जारी रखूंगा जैसा मैं पूर्व से बड़कागांव

,हजारीबाग के विभिन्न कोचिंग केंद्रों में जाकर खोरठा पढ़ाने करने का काम करता था।

महादेव महतो 2012 से लेकर 2020 तक हजारीबाग सुभाष नगर गली नंबर एक किराए के

रूम मैं रहकर भी अपनी तैयारी का जिद नहीं छोड़े मकान मालिक साहेब महतो का भी श्रेय

जाता है महादेव की तैयारी के पीछे । साहब महतो बताते हैं कि जब महादेव बाबू का तीन

तीन बार जेपीएससी का रिजल्ट नहीं आ पाया तब महादेव बाबू को हताश होने नहीं दिया

बोले कि मेहनत कीजिए मेहनत का फल मीठा होता है आज छठी जेपीएससी का रिजल्ट

महादेव बाबू का कदम चूम लिया महादेव बाबू आज अपनी माता पिता से मिलकर फूले

नहीं समा रहे थे। अपनी माता-पिता की सपना पूरा कर दिखाएं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from हजारीबागMore posts in हजारीबाग »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!