fbpx Press "Enter" to skip to content

सरकार यह बताये कि आरबीआइ की सूचना गलत है या सहीः कांग्रेस

नयी दिल्ली : सरकार यह बताये कि भारतीय रिजर्व बैंक ने सूचना के अधिकार के तहत

जो जानकारी उपलब्ध करायी है वह सही है अथवा नहीं। रिजर्व बैंक ने घोटालेबाजों के 68

हजार करोड रुपए का कर्ज माफ करने संबंधी जो सूचना दी थी वह सही है या गलत, इस

बारे में सरकार को स्पष्टीकरण देना चाहिए। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह

सुरजेवाला ने बुधवार को सरकार से पूछा कि यदि रिजर्व बैंक ने आरटीआई के तहत सही

सूचना दी है तो उसको बताना चाहिए कि जो कर्जदार पैसा लौटाने की बजाय विदेश भागे हैं

उनके कर्ज को किस आधार पर माफ किया गया। उनका कहना था कि इस बारे में रिजर्व

बैंक ने 24 अप्रैल को एक आरटीआई के तहत घोटालेबाजों की सूची दी है, सरकार को

बताना चाहिए कि यह सूची गलत है या सही है। उन्होंने ट्वीट कर एक शायरी में सरकार

से पूछा ‘‘ देश को भटकाने की बजाय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी को सत्य बताना

चाहिए, क्योंकि यही राज धर्म की कसौटी है। हम आपको और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी

को यही कहेंगे-‘तू इधर उधर की बात न कर,ये बता की काफिला क्यों लूटा, मुझे रहजनों से

गिला नही,तेरी रहबरी का सवाल है।

सरकार यह बताये कि भगोड़ों को फायदा क्यों दिया

प्रवक्ता ने सरकार से सवाल किए और कहा ‘‘मोदी सरकार ने 2014-15 से 2019-20 के

बीच डिफॉल्टरों का 6,66,000 करोड़ कर्ज क्यों राइट ऑफ किया। क्या 50 डिफॉल्टरों का

68,607 करोड रुपए कर्ज माफ करने का रिजर्व बैंक का आरटीआई का जबाब सही है। मोदी

 देश का पैसा ले कर भाग गए घोटालेबाजों – नीरव मोदी मेहुल चौकसी के 8,048

करोड़, जतिन मेहता के 6,038 करोड़, विजय माल्या के 1,943 करोड़ रुपए तथा अन्य

मित्रों का कर्ज क्यों राइट ऑफ कर रही है। इतना बड़े 6,66,000 करोड़ के बैंक कर्ज राइट

ऑफ की अनुमति सरकार में किसने दी और क्यों और निर्मला जी, 6,66,000 के कर्ज राइट

ऑफ को सिस्टम की सफाई नही, बैंक में जमा जनता की गाढ़ी कमाई की सफाई कहते हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from नेताMore posts in नेता »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!