Press "Enter" to skip to content

श्मशान घाट में जले हुए मिले सरकारी दस्तावेज, पूरे असम में काफी सनसनी




  • घोटाला का सबूत मिटा रही है हेमंत सरकाরरः कांग्रेस
  • भर्ती घोटाले की सीबीआई जांच जारी है यहां
  • चालकों ने खुद को नगर निगम का बताया
  • दो ट्रकों में भरकर लाये गये थे दस्तावेज
भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : श्मशान घाट पर अनेक सरकारी दस्तावेज जलाने के सबूत मिले हैं। आज असम के गुवाहाटी के नबग्रहा श्मशान घाट में जली हुई अवस्था में सरकारी दस्तावेजों का बड़ा ढेर मिला है।




रिपोर्टों के अनुसार, दो पिकअप ट्रकों को सरकारी दस्तावेजों के विशाल ढेर को श्मशान घाट पर गिराने का काम सौंपा गया था, जहां उनको चिता पर जलाया गया था।

मीडिया द्वारा सामना किए जाने पर, ट्रक ड्राइवरों ने अस्पष्ट जवाब दिया और उन्होंने केवल यही जानकारी दी कि वे गुवाहाटी नगर निगम (जीएमसी) के कर्मचारी थे।

उन्होंने आगे कहा कि उन्हें सभी ‘जंक’ कागजों के निपटान के लिए श्मशान घाट में 12 और चक्कर लगाने होंगे। यह सुनने के बाद पूरे असम में काफी सनसनी फैल गई है ।

लोगों को कहना है कि भाजपा सरकार ने विगत 6 साल में असम में बहुत सारे घोटाला किया है । पंचायत और ग्रामीण विभाग के सरकारी नौकरी घोटाले ,असम पुलिस उपनिरीक्षक भर्ती घोटाला हुए हैं ।

इस घोटाले को भविष्य में जनता के सामने ना आने के लिए इसी तरह सरकारी दस्तावेज जलाकर राख कर दिया है।




दूसरी ओर , असम के मुख्यमंत्री हेमंत विश्व शर्मा जब 2015 तक कांग्रेस सरकार के मंत्री थे, तब उन्हें 6 करोड़ लुई बर्जर घोटाले और 3 करोड़ सारदा घोटाले में शामिल होने का आरोप था ।

पश्चिम बंगाल सरकार और सीबीआई के बीच चिट फंड घोटाले में चल रहे विवाद के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा नेता, असम के मुख्यमंत्री हेमंत विश्व शर्मा पर शारदा समूह के मालिक सुदीप्त सेन से तीन करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाया है।

श्मशान घाट की घटना पर फिर से सारडा घोटाला की चर्चा

उसने कहा कि सेन के 2013 के उस पत्र को जारी किया, जिसमें सेन ने आरोप लगाया था कि भाजपा नेता असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा ने उनसे तीन करोड़ रुपये ठगे थे।

भाजपा में शामिल होने के बाद हेमंत विश्व शर्मा सुरक्षित हैं। इस बीच कांग्रेस और टीएमसी ने उचित विभागीय जांच प्रक्रिया की मांग की है।

कांग्रेस पार्टी का आरोप है कि सबसे अधिक घोटाला का सबूत मिटा रही है हेमंत सरकार। उन्होंने कहा, इस घोटाले को इसी तरह से सरकारी दस्तावेजों को जलाकर राख कर दिया गया है

ताकि भविष्य में इसे जनता के सामने आने से रोका जा सके । लेकिन अभी तक सरकार ने इस बारे में मुंह नहीं खोला है।



More from HomeMore posts in Home »
More from असमMore posts in असम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: