fbpx Press "Enter" to skip to content

सरकार ने स्पष्ट किया शिक्षा ऋण माफी की योजना नहीं

नयी दिल्लीः सरकार ने स्पष्ट किया है कि शिक्षा ऋण देश विदेश में पढ़ने वाले छात्रों को उच्च शिक्षा उपलब्ध कराने

में मदद के लिए दिया जा रहा है और इससे अब तक लाखों छात्र लाभान्वित हो चुके हैं।  लेकिन इस ऋण को माफ करने

की उसकी कोई योजना नहीं है।

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को लोकसभा में एक पूरक प्रश्न के उत्तर में बताया कि योजना के तहत

देश में शिक्षा प्राप्त करने के लिए छात्रों को दस लाख रुपए तथा विदेशों में शिक्षा के लिए 20 लाख रुपए तक का ऋण

दिया जाता है।

योजना के तहत चार लाख रुपए तक के ऋण के लिए कोई गारंटी नहीं है जबकि साढ़े सात लाख रुपए तक के ऋण के

लिए थर्ड पार्टी गारंटी की योजना है।

उन्होंने कहा कि यह सावधिक ऋण है और इसका भुगतान 15 साल के भीतर किया जाना है।

इसमें एक साल के लिए छात्रों को ऋण लौटाने में छूट का प्रावधान किया गया है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने बैंकों को शिक्षा में गैर उत्पीड़न नीति अपनाने के लिए कहा है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस ऋण को माफ करने की सरकार की कोई योजना नहीं है।

यह ऋण सभी जरूरतमंद विद्यार्थियों के लिए है।

इस ऋण से संबंधित जानकारी हासिल करने के लिए विद्या लक्ष्मी पोर्टल तैयार किया गया है

जिसमें सारी सूचनाएं दी गयी है।

पिछले तीन वर्ष के दौरान बकाया शिक्षा ऋण सितम्बर तक 75450.68 करोड़ रुपए हो गया है।

सरकार ने स्पष्ट किया जब इस पर सवाल उठे

सरकार द्वारा कर्जमाफी के फैसलों पर चर्चा के दौरान यह प्रश्न सामने आया था। दरअसल व्यापारिक घरानों को

कर्जमाफी का लाभ दिये जाने के सवाल पर विपक्ष लगातार सरकार पर हमलावर है।

इसी क्रम में हर कर्ज के विवरणों की जांच संबंधी विवरण भी लोकसभा की चर्चा में आये हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from बयानMore posts in बयान »
More from राज काजMore posts in राज काज »

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!