fbpx Press "Enter" to skip to content

राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने ग्लोबल वार्मिंग में प्रकृति को बचाये रखने की बात कही







मिथलेश कुमार

तेनुघाटः राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने आज यहां आयोजित 19वें अंतरराष्ट्रीय सरना

धर्म महासम्मेलन -सह- लुगु बुरु घंटाबाड़ी धोरोम गाढ़ राजकीय महोत्सव में भाग

लिया। इस मौके पर राज्यपाल श्रीमती मुर्मू ने समारोह के समापन अवसर पर

अपनी बात रखी।

वीडियो में देखें राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू और दिशोम गुरु को

वह इस समापन समारोह की मुख्य अतिथि थीं। बोकारो जिला अंतर्गत गोमिया प्रखंड  के

ललपनिया लुगुबुरु में आयोजित कार्यक्रम से देश के विभिन्न कोने तथा विदेश से आये संथाली

भक्तजनों को संबोधित करते हुए कहा कि सामाजिक सौहार्द्र के वातावरण में स्थित यह स्थल

आस्था का अद्भुत केंद्र,  संथाल आदिवासी का धार्मिक धरोहर के रूप में विख्यात है। बचपन से

कहानी सुना लुगुबुरु के बारे में, यह आस्था एवं विश्वास का स्थल है। झारखंड में कई ऐसे स्थल

है जहाँ धर्म की पूजा होती है। पारसनाथ, छिन्नमस्तिका में भी संथाली आस्था का केंद्र है।

आदिवासी देवी देवता खुला आसमान में रहना पसंद करते है। प्रकृति की पूजा होती है। पेड़ पौधे,

हवा, पानी, चांद, सूर्य की पूजा करते है। वे अटल विश्वासी है। रोजमर्रा में भी चलते फिरते नमन

करते है। ग्लोबल वार्मिंग का समय है। सभी अदिवासी को पर्यावरण का संरक्षण करना होगा।

आदिवासी जो प्रकृति की पूजा करते है। यह एक चुनौती है। सभी को सचेत रहना होगा, सजग

होना होगा।

राज्यपाल ने सभी की शिक्षा को भी जरूरी बताया

शिक्षा पर जोर देते हुए माननीया राज्यपाल ने उपस्थित आदिवासी महिला पुरूष

से कहा कि शिक्षा अनिवार्य है, गांव के पिछड़े को साथ लेकर आगे बढ़ना होगा।

शिक्षा ही पिछड़ेपन को दूर करेगा तथा शिक्षा ही विकास की कुंजी है। हमारी भाषा,

परंपरा, संस्कृति सभी से अलग है। पिछड़े लोगो के प्रति हमारी निरंतर सोच रहती

है। वीर सपूतों की धरती है झारखंड। बिरसा, सिदो कान्हू, बुधु भगत, तिलक मांझी

जैसे वीर की भूमि है। हमे गर्व होना चाहिए, सभी वीर आदिवासी है। भाषा, संस्कृति,

परंपरा के लिए कार्य करना होगा।

दिशोम गुरु शिबू सोरेन भी हुए समारोह में शामिल

इस समारोह में राज्यपाल के अलावा झामुमो अध्यक्ष और आदिवासियों के बीच

दिशोम गुरु के नाम से परिचित शिबू सोरेन भी पहुंचे थे। उन्होंने भी इस आयोजन

का जायजा लिया। इस मौके पर अनेक इलाकों के सरना धर्मालंबी वहां इस समारोह

में शामिल होने पहुंचे थे।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply