fbpx Press "Enter" to skip to content

जुमलेबाज सांसद को खोज रही है गोड्डा की जनताः दीपिका पांडे सिंह


रांचीः जुमलेबाज सांसद के नाम पर कांग्रेस की विधायक दीपिका पांडेय सिंह ने आज

गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे की फजीहत कर दी। गोड्डा में पड़ने वाले एनएच 133 की

दुर्दशा के मुद्दे पर स्थानीय लोगों से मिलने पहुंची विधायक ने वहां के सांसद को लापता

बताते हुए कहा कि वह सिर्फ सोशल मीडिया पर ही जनता की दुख तकलीफों पर जुड़े

मालूम पड़ते हैं। इलाके की जनता ने उन्हें काफी अरसे से देखा भी नहीं है। एनएच 133 की

हालत बहुत ही ज्यादा खराब है। काफी दिनों से इसे बनाने की मांग लोग कर रहे हैं। अब

धीरे-धीरे यह मुद्दा राजनीतिक रंग ले रहा है। सोमवार को महगामा के मोहनपुर चौक पर

कांग्रेस की तरफ से रोड पर विधायक दीपिका पांडेय सिंह उतरीं। समर्थकों के साथ मिलकर

उन्होंने दिन भर सड़क पर धरना-प्रदर्शन किया। इसी धरना-प्रदर्शन के दौरान और सोशल

मीडिया पर उन्होंने गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे को जमकर घेरा। ट्विटर और फेसबुक

पर दीपिका पांडेय सिंह ने 20 से ज्यादा पोस्ट किए।

जुमलेबाज सांसद के  बातचीत का वीडियो  भी  शेयर किया

सिर्फ गोड्डा की बात कहने तक ही दीपिका नहीं रूकी। उन्होंने कहा कि अगर कपटपूर्ण

तरीके से जमीन खरीदने से अगर फुरसत मिल गई हो तो  जनता को बताइए की आखिर

दस सालों से गोड्डा की जनता तिल-तिल कर जीने को क्यों  मजबूर है। बद्तर सड़क से

परेशान जनता का आक्रोश अब चरम पर है। साथ ही कहा कि  पेपर की कटिंग देखकर

सोशल मीडिया पर हवाबाजी करने वाले जुमलेबाज सांसद की  तलाश आज पूरी गोड्डा की

जनता को है। जनता पूछ रही है, कहां हैं क्रेडिटबाज सांसद।  जनता के बीच क्यों नहीं

आते। सांसद महोदय को क्या ये भी पता है कि उनका क्षेत्र अब  सिटी ऑफ लेक कहलाने

लगा है। हाइवे पर अब गाड़ियां नहीं चलतीं, बल्कि गड्ढे के ऊपर  से गुजरने वाले कथित

हाइवे अब आवारा जानवरों का तालाब बन गया है। सांसद जी हवा  में तो खूब हवाई जहाज

उड़ा लिया। अब जमीन पर भी तो आइए और देखिए पीरपैंती से  हंसडीहा तक 85 किलो

मीटर टू लेन एनएच 133 आज मौत की सड़क बन गयी है। अब  तक दर्जनों जान जा चुकी

आखिर कब आपके क्षेत्र के लिए लैंड करेगा आपका जमीर।- माल वाहक टेम्पो चलते हैं

गोड्डा से पीरपैंति तक। सड़क में गड्ढा नहीं है, गड्ढा में सड़क  है और हम उसमें गाड़ी

चलाते हैं। सांसद निशिकांत दुबे कहां है? नहीं पता क्या करते हैं  नहीं मालूम ? हम तो नाम

भी भूल गए हैं, चुनकर गए हैं कभी लौट कर नहीं आए।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: