Press "Enter" to skip to content

वैश्विक आतंकवादी घोषित हाफिज सईद हुआ गिरफ्तार







लाहौर: वैश्विक आतंकवादी घोषित हाफिज सईद को पाकिस्तान की लाहौर से गिरफ्तार कर लिया गया है।

पंजाब की काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट ने हाफिज सईद को लाहौर से गिरफ्तार किया।

वह लाहौर से गुजरांवाला जा रहा था। गिरफ्तारी के बाद हाफिज सईद को न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

इस दौरान हाफिद सईद ने कहा कि मैं अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ कोर्ट जाऊंगा।

हालांकि, पाकिस्तान की इस कार्रवाई पर बहुत भरोसा नहीं किया जा सकता है

क्योंकि वैश्विक आतंकवादी घोषित होने के बाद भी हाफिज पर पहले भी ऐक्शन का ड्रामा किया चुका है।

डोनाल्ड ट्रंप की चेतावनी के बाद भी इससे पहले पाकिस्तान ने तुरंत ही हरकत में आते हुए लाहौर में हाफिज के ठिकाने पर पहुंचकर उसे नजरबंद कर लिया था।

लेकिन फिर जल्द ही नजरबंदी वाले नाटकबाजी से फ्री होकर हाफिज पाकिस्तान की आतंक प्रायोजक नीति को मजबूती देने के काम में जुट गया था।

मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा (जेयूडी) सरगना हाफिज सईद को आतंकवाद रोधी विभाग (सीटीडी) ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत से गिरफ्तार कर लिया।

वैश्विक आतंकवादी पर कार्रवाई इमरान खान के पाकिस्तान दौरे के पहले

अधिकारियों ने बताया कि सईद आतंकवाद रोधी अदालत में पेश होने के लिए लाहौर से गुजरांवाला आया था

तभी उसे गिरफ्तार कर लिया गया। उसके खिलाफ कई मामले लंबित हैं।

बताया जा रहा है कि उसे एक अज्ञात स्थान पर ले जाया गया है।

सईद के नेतृत्व वाला जेयूडी लश्कर-ए-तैयबा का ही संगठन है जो 2008 मुंबई हमलों के लिए जिम्मेदार है।

इस हमले में 166 लोग मारे गए थे।

अमेरिका के वित्त विभाग ने सईद को वैश्विक आतंकवादी सूची में डाल रखा है और अमेरिका ने 2012 से ही सईद को सजा दिलाने के लिए सूचना देने के वास्ते एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय के दबाव में पाकिस्तानी अधिकारियों ने जेयूडी और लश्कर-ए-तैयबा के ठिकानों और आतंकवाद के वित्त पोषण के वास्ते निधि जुटाने के लिए ट्रस्टों के इस्तेमाल के मामलों की जांच शुरू की है।

भारतीय विदेश मामलों के जानकारों का कहना है कि पाकिस्तान ने ये कदम अमेरिका को ध्यान में रखते हुए उठाया है।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान 21 जुलाई को अमेरिका के तीन दिवसीय दौरे पर जा रहे हैं।

अमेरिका शुरू से ही आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान के प्रति कड़ा रुख रखते आया है।

यही कारण है पाकिस्तान ने ये गिरफ्तारी की है।

पाकिस्तान नहीं चाहता कि अमेरिकी दौरे के दौरान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आतंकवाद को लेकर इमरान खान से कुछ भी कहें।

भारत के विरुद्ध इस संगठन ने कई हमले किए हैं। शुरू में इस संगठन का उद्देश्य

अफगानिस्तान से सोवियत सैनिकों को बाहर निकालना था

लेकिन अब इस संगठन का उद्देश्य कश्मीर को भारत से अलग करना है।



Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
    1
    Share

Be First to Comment

Leave a Reply

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com