अगर टीवी देखने का पैसा दे रहे हैं तो विज्ञापन की छूट भी मिले

अगर टीवी देखने का पैसा दे रहे हैं तो विज्ञापन की छूट भी मिले
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रतिनिधि
मुंबईः अगर टीवी देखने के नये दरों पर एक सामाजिक कार्यकर्ता ने नया सवाल खड़ा कर ट्राई को भी सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है।

मुंबई ग्राहक पंचायत को लिखे पत्र में मीडिया सलाहकार रवि नैयर ने यह मुद्दा खड़ा किया है।

इसमें उन्होंने कहा है कि अगर ग्राहक को अपनी पसंद का टीवी चैनल देखने का पैसा देना है

तो उसे विज्ञापन से होने वाली कमाई का लाभ भी मिलना चाहिए।

कई चैनलों ने अपने तमाम चैनलों को मिलकर समूह बनाते हुए उनकी मार्केटिंग की है।

चैनलों का दर 50 पैसे से लेकर 19 रुपया प्रतिमाह तक का है।

दूसरी तरफ सिर्फ 130 रुपये के भुगतान पर एक सौ फ्री चैनल दिखाने का नियम भी ट्राई ने बनाया है।

वैसे इस रकम में जीएसटी जोड़कर यह कुल राशि 153 रुपये की हो जाती है।
श्री नैयर ने कहा है कि

जब ग्राहक किसी चैनल के लिए पैसे का भुगतान कर रहा है तो चैनल को विज्ञापन से

होने वाली आमदनी का हिस्सा पाने का भी वह हकदार है।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में फ्री चैनलों में भी ग्राहकों को वैसे चैनल परोसे जा रहे हैं, जो वे देखना नहीं चाहते।

यानी दर्शकों को दूसरी तरफ से पेड चैनल का पैसा देने के लिए मजबूर किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि सामान्य सर्वेक्षण यह बताता है कि हर घर में दर्शक औसतन 50 चैनल ही देखा करते हैं।

इसलिए ट्राई को भी इस दिशा मे प्रयास करना चाहिए और चैनलों को विज्ञापन से होने वाली आमदनी का लाभ

ग्राहकों तक पहुंचाना चाहिए

क्योंकि इन्हीं दर्शकों की बदौलत ही चैनलों को कमाई हो रही है।

अगर दर्शकों को विज्ञापन से होने वाली आमदनी का लाभ नहीं दिया जा सकता है तो विज्ञापनों का प्रदर्शन भी रोक दिया जाना चाहिए।

मुंबई में इस दलील के बाद नये किस्म की बहस प्रारंभ हो गयी है।

ग्राहक पंचायत तक यह बात पहुंचने की वजह से अब उपभोक्ता हित पर भी चैनलों को नये सवालों का उत्तर देना पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.