fbpx Press "Enter" to skip to content

बच्ची का फीस बकाया इसलिए स्कूल में कैद







  • गुरुकुल स्कूल में 500 बाकी को लेकर नहीं मिल रहा था छुट्टी
  • आचार्य के कहने पर बच्चियों ने धक्का देकर मां को निकाला
  • मौके पर पहुंची पुलिस बच्ची के बयान पर स्कूल से दिलाई छुट्टी
संवाददाता

हजारीबाग: बच्ची का फीस बकाया होने की वजह से बच्ची को स्कूल से छोड़ा नहीं जा रहा था।

उससे मिलने पहुंची मां को भी स्कूल के आचार्य के कहने पर वहां की बच्चियों ने ही धक्के मारकर

बाहर निकाल दिया। यह वाकया हजारीबाग के लोहसिंगना थाना अंतर्गत मजार के बगल में

स्थापित आर्य समाज गुरुकुल स्कूल का है। अपनी बच्ची से मिलने गयी मां ने जब गेट के अंदर

प्रवेश करने की कोशिश की तो गुरुकुल के आचार्य के कहने पर उसे बच्चियों ने ही

धक्का मारकर बाहर निकाल दिया।

इस घटना पर वहां हंगामा होते देख स्थानीय नागरिक भी एकत्रित हो गये।

भीड़ एकत्रित होने के बाद लोगों  ने पुलिस को इस घटना की सूचना दे दी।

जीव लाल की पत्नी ने बताया कि उसकी बेटी इस स्कूल में पढ़ती है।

बच्ची के पिता मुंबई में काम करते हैं। पिछली बार दुर्गा पूजा में वह आये थे

तो एक हजार रुपया स्कूल फीस जमा कर गये थे।

अब दोबारा वह छठ पूजा की छुट्टी को लेकर आने वाले हैं।

इस बीच बच्ची का फीस मात्र पांच सौ रुपया बकाया हो गया है।

इसी बकाये की वजह से उसे अपनी बच्ची से मिलने नहीं दिया जा रहा है।

उसकी शिकायत थी कि बच्चियों द्वारा धक्का मारकर बाहर निकालने के क्रम में

उसे थोड़ी चोट भी आयी है। वही स्कूल प्रबंधक ने बताया कि स्कूल डोनेशन पर चलता है

इस स्कूल में आधे बच्चे हॉस्टल का फीस देते हैं और आधे मुफ्त में पढ़ते हैं। सेठ साहूकार

के सहयोग से स्कूल चलता है स्कूल का नियम कानून नामांकन के समय ही बता दिया

जाता है। महीने में अभिभावक अपने बच्ची से एक बार मिल सकते है लेकिन यह महिला

बार-बार मुलाकात करती है।

बच्ची का फीस बकाया के आरोप को गलत बताया प्रबंधक ने

इसके बाद लोहसिंगना थाना प्रभारी ने बच्ची की छुट्टी दिला कर बच्ची और अभिभावक

को पुलिस जीप में बैठाकर डिस्ट्रिक्ट मोड़ छोड़ दिया। वही विद्यार्थी निशा कुमारी ने

बताया इस स्कूल में ना ही भोजन अच्छा दिया जाता है ना अच्छी पढ़ाई दी जाती है।

जिसको लेकर हम इस विद्यालय में नहीं पढ़ना चाह रहे थे।

लेकिन मुझे जबरन प्राचार्य के द्वारा इस स्कूल में रहने की बात कही जा रही थी।

मां से मुलाकात के दौरान हम अपनी सारी बात बताए थे ।

जिसको लेकर मां छठ पूजा में घर ले जाने के लिए आई थी।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.