केरल में 26 साल बाद खुला इडूकी डैम का फाटक

केरल का इडूकी डैम
  • फिर से हुई बारिश तो पहले खोला गेट

  • नीचे के इलाकों में रेड एलर्ट जारी

  • डैम की मछली पकड़ने में जुटे लोग

शालिनी टी एस

इडूकी: केरल में 26 वर्षों  के लंबे अंतराल के बाद केरल के इडूकी डैम का फाटक अंतत: खोल ही दिया गया।

डैम में पानी का स्तर 2398.98 फीट पहुंचने के बाद अधिकारियों ने यह फैसला लिया।

दोपहर में गेट का फाटक खोलने के छह घंटे के भीतर कई इलाकों में इस डैम का पानी पहुंचने वाला है।

इसी वजह से सभी को सतर्क कर दिया गया है।

एहतियात के तौर पर सेना, नौसेना और वायुसेना के अलावा एनडीआरएफ की टीमें भी सतर्क और तैनात कर दी गयी हैं।

इस डैम का अंतिम जलस्तर सीमा 2403 फीट है।

पहले यह तय था कि 2400 फीट तक जलस्तर पहुंचने के बाद डैम का फाटक खोल दिया जाएगा।

पिछली रात से हो रही तेज बारिश की वजह से अधिकारियों ने

अपने पूर्व निर्णय बदलते हुए डैम का फाटक पहले ही खोलने का फैसला किया।

ऐसा इसलिए किया गया है ताकि डैम में और अधिक पानी पहुंचने के पहले ही डैम से पानी की निकासी प्रारंभ हो जाए।

वैसे तय है कि मध्य केरल के कई जिलों में इस पानी से अनेक इलाके फिर से डूब जाएंगे क्योंकि इन इलाकों में पहले से ही पानी भरा हुआ है।

वर्तमान में डैम की देखरेख करने वाले अधिकारी 50 घनमीटर पानी प्रति सेकंड निकालने की योजना पर काम कर रहे हैं।

केरल के कई इलाकों में लोगों को हटने को कहा गया

दूसरी तरफ पेरियर नदी के किनारे बसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने का कह दिया गया है।

इस डैम का फाटक खोले जाने के बाद यह पानी पेरियार नदी से हेते हुए भूथानकेतु, इदामालायर, कलाड़ी

और अलुवा होते हुए समुद्र तक पहुंचेगा।

रास्ते में जितने भी इलाके हैं वहां बाढ़ की स्थिति आयेगी।

मजेदार स्थिति यह है कि डैम का फाटक खोले जाने के बाद आस-पास के लोग

डैम की बड़ी बड़ी मछलियों को पकड़ने की तैयारियों में भी जुटे हुए हैं।

इस डैम के अंदर काफी बड़ी आकार की मछलियां हैं, जिनमें से एक को पेरियार नदी से पकड़ा गया था।

वह मछली 80 किलो वजन की थी।

देश के सबसे ऊंचे इस आर्क डैम का निर्माण कुरुवन और कुराथी पहाड़ों को जोड़कर किया गया था।

अब फाटक खुलने के बाद डैम और उसके आस-पास के अलावा सेल्फी लेने, नहाने

एवं पेरियर नदीं के पास जाने तक पाबंदी लगा दी गयी है।

केरल में भारी बारिश, भूस्खलन में 15 मरे

केरल के मलाप्पुरम और इडूकी जिलों में पिछले 24 घंटों से जारी

भारी बारिश के बाद भूस्खलन की घटनाओं में 16 लोग मारे गए

और नौ अन्य घायल हो गए। इन हादसों के बाद चार लोग लापता हैं।

आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारियोें के अनुसार मलाप्पुरम जिले के निलांबुर में गुरुवार सुबह भूस्खलन की एक घटना में

एक ही परिवार के पांच लोग जीवित दफन हो गए।

घटना की जानकारी मिलने के बाद इन सभी को मलबे से बाहर निकाला गया

और इनकी पहचान कुनही(55),गीता (24), मिधुन(17) ,नवनीत(6) और निवेध(4) के तौर पर की गई है।

परिवार का एक अन्य सदस्य सुब्रमणियन(30) लापता बताया जा रहा है।

इडूकी जिलों में भूस्खलन की दो घटनाओं में 10 लोग मारे गए हैं और नौ घायल हुए हैं तथा तीन अन्य लापता हैं।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.