fbpx Press "Enter" to skip to content

असम में तेल के कुंए में फिर से विस्फोट

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : असम में तेल के कुंए में फिर से विस्फोट होने की सूचना है। बहुत कम समय के

अंतराल में दूसरी बार गैस रिसाव से तेल के कुआं में विस्फोट होने से लोग घबड़ाये हुए हैं।

इस परेशानी ने कोरोना संकट के बीच नई मुसीबत खड़ी कर दी है। सार्वजनिक क्षेत्र की

ऑयल इंडिया लिमिटेड (ऑयल) के असम स्थित गैस के कुंए में आज फिर से विस्फोट

(ब्लोआउट) हुआ। असम के बागजान ऑयल फील्ड में विस्फोट के एक सप्ताह बाद आज

फिर से आग लग गई। असम के बागजान क्षेत्र में तेल क्षेत्र एक बड़े पैमाने पर आग में घिर

गया है। क्षेत्र में तेल का कुआँ गैस रिसाव कर रहा है। असम के मुख्यमंत्री ने तेल क्षेत्र में

गैस विस्फोट की घटनाओं के बारे में पेट्रोलियम मंत्री को अवगत कराया। यह उल्लेख

किया गया है कि, क्षेत्र में तेल कुँआ 27 मई को विस्फोट के एक सप्ताह के बाद से

अनियंत्रित रूप से गैस का रिसाव कर रहा है। विजुअल्स आसमान में एक धुएँ के बादल

बढ़ते हुए देखा जा रहा है।

रिसाव वाले प्राकृतिक गैस को ठंडा करने के लिए एक निरंतर स्प्रे का उपयोग किया जा

रहा है ताकि इसे जल उठने और विस्फोट करने से रोका जा सके। राष्ट्रीय आपदा

प्रतिक्रिया बल को बुलाया गया और लगभग 3,500 लोगों को राहत शिविरों में ले जाया

गया। ऑयल इंडिया लिमिटेड की रिपोर्ट के अनुसार, जो कुएं का संचालन करती है,

मंगलवार 2 जून को रिसाव से गैस अभी भी अनियंत्रित रूप से बह रही थी। कंपनी ने

रिसाव को नियंत्रित करने के लिए विदेशी विशेषज्ञों को बुलाया है।

असम में तेल के कुएं का हाल देखने सिंगापुर से टीम आयी

सिंगापुर की एक टीम को विस्फोट के कारण का आकलन करने के लिए बुलाया गया था।

स्थानीय लोगों और पर्यावरण कार्यकर्ताओं के अनुसार, इस क्षेत्र की दुर्लभ जैव विविधता

और आवश्यक स्थानीय कृषि के लिए पहले से ही अनकही क्षति हुई है। बागजान तेलक्षेत्र

के तहत आने वाले बागजान-5 कुंए में आज फिर से अचानक से बहुत हलचल देखी गयी।

उस समय वहां गैस उत्पादन का काम चालू था। ’’ ऑयल ने कहा कि कुंए में विस्फोट को

नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी का छिड़काव किया गया है। साथ ही

ब्लोआउट को रोकने वाली प्रणाली को लगाया गया है।

जानकार बताते हैं कि यह स्थिति कुंए के अंदर दबाव बनाए रखने वाली प्रणाली के सही

तरीके से काम नहीं करने के चलते बनती है। बता दें कि इस घटना में अभी तक किसी के

हताहत होने की खबर नहीं मिली है। स्थानीय नागरिकों ने सरकार और कंपनी पर आरोप

लगाया कि कंपनी इस गंभीर समस्या पर ध्यान नहीं देने के कारण समस्या और गंभीर

होती जा रही है। स्थानीय जनता डरी हुई है, फिर भी जनता घबराई हुई है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from असमMore posts in असम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »

4 Comments

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: