Press "Enter" to skip to content

फ्रांस ने मेडिटेरियन समुद्र में अपना युद्धपोत तैनात किया




निकोसियाः फ्रांस ने मेडिटेरियन समुद्र में अपना युद्धपोत आउवर्जेन तैनात किया है। इस युद्धपोत पर डेढ़ सौ नौसैनिक तैनात है।




ऐसा माना जा रहा है कि इस इलाके में अपना प्रभुत्व कायम रखने के लिए फ्रांस ने ऐसा कदम उठाया है।

इस युद्धपोत के कप्तान पॉल विगानॉक्स ने कहा कि पूर्वी मेडिटेरियन में उनकी जिम्मेदार सुरक्षा संबंधी कार्य ही होंगे।

इसके तहत युद्धपोत को वहां रखते हुए फ्रांस ने विरोधियों को अंतर्राष्ट्रीय नियमों का सख्ती से पालन करने की हिदायत देने का भी काम किया है।

याद दिला दें कि इससे पूर्व एक द्वीप पर मछली मारने के विवाद में भी उसके और ब्रिटेन के सैनिक एक दूसरे के आमने सामने आ गये थे।

इस मेडिटेरियन समुद्र में बड़े युद्धपोत को तैनात करना सामरिक तौर पर अन्य देशों को चेतावनी देना भी है।




तीन साल पहले ही पानी में उतारा गया यह युद्धपोत 12वीं बार साइप्रस के इलाके में आया है। उसके हवाई जहाज भी अक्सर ही यहां आते रहते हैं। दरअसल दोनों देशों के बीच इनदिनों अच्छे रिश्ते हैं।

फ्रांस ने मेडिटेरियन में तुर्की को संकेत दिया है

वैसे समझा जाता है कि उसने ऐसा कदम वहां तुर्की को स्पष्ट और सख्त संदेश देने के लिए ही किया है। तुर्की ने अब तक साइप्रस को मान्यता नहीं दी है।

इसलिए उसके समुद्री हिस्सों में भी वह दखलअंदाजी करता रहता है। इस इलाके के समुद्र में अनेक ऐसे इलाके हैं, जिन्हें लेकर परस्पर विरोधी दावेदारी जारी है।

लिहाजा यह स्पष्ट है कि युद्धपोत तैनात कर यूरोपीय देश ने तुर्की को भी चेतावनी देने का काम किया है। तुर्की ने इससे पहले अनेक अवसरों पर साइप्रस को दबाने की पुरजोर कोशिश की थी।

अब फ्रांस ने अपनी सेना की तैनाती बढ़ाकर इसे नियंत्रित करने में कामयाबी पायी है। साइप्रस को सैन्य हवाई अड्डों का भी फ्रांस ने इस्तेमाल किया है।

दूसरी तरफ इस देश के सैन्य बंदरगाहों पर फ्रांस के बड़े युद्धपोतों के आने जाने से अब तुर्की को भी इस इलाके में समुद्री दखल पर सोच समझकर काम करना पड़ रहा है।



More from HomeMore posts in Home »
More from कूटनीतिMore posts in कूटनीति »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from तुर्कीMore posts in तुर्की »
More from फ्रांसMore posts in फ्रांस »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: