फ्लोरिडा का समुद्री तट मृत जानवरों और लाल शैवाल से भरा

फ्लोरिडा का समुद्री तट
  • पर्यटक भी स्थिति देखकर भागे

  • स्थानीय निवासी भी दुर्गंध से परेशान

  • आपातकालीन इंतजाम की तैयारियां

प्रतिनिधि

नईदिल्लीः फ्लोरिडा समुद्री तट बदबूदार हो गया है।

इस समुद्री तट पर समुद्र से मरकर आये प्राणियों की भरमार है।

साथ ही वहां खतरनाक लाल शैवाल का भी हमला हुआ है।

समझा जा रहा है कि रासायनिक प्रतिक्रिया करने वाले इसी लाल शैवाल की वजह से ही

समुद्री प्राणियों की मौत हुई है।

समुद्री तट का यह हाल देखकर वहां आये पर्यटक भाग गये हैं।

स्थानीय निवासियों को भी समुद्र तट से आती बदबू से लगातार परेशानी हो रही है।

वैज्ञानिक यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि अचानक लाल शैवाल का प्रकोप इतना कैसे बढ़ गया, जिसने समुद्र के अंदर तबाही मचा रखी है।

आसमान से देखने पर साफ पता चल रहा है कि इस शैवाल की वजह से पानी का रंग भी गहरा हो गया है।

अब तो कुछ स्थानीय लोग भी इस शैवाल के भर जाने  की वजह से सांस लेने में हो रही दिक्कतों की शिकायत कर रहे हैं।

समुद्र तट पर हर किस्म के समुद्री प्राणियों की लाश बिछी हुई है।

फ्लोरिया का समुद्री तटइनमें सबसे बड़े आकार का प्राणी एक शार्क है।

करीब 26 फीट लंबे इस शार्क की मौत भी लाल शैवाल की चपेट में आने की वजह से हुई है।

इसके अलावा हर किस्म की मछली, कछुआ और अन्य प्राणियों की लाश समुद्र तट पर दुर्गंध फैला रही है।

जिन्हें हटाने का काम भी युद्धस्तर पर चल रहा है।

फ्लोरिडा के गवर्नर ने आपातकाल की घोषणा की

वहां के गर्वनर रिक स्कॉट ने स्थिति की गंभीरता को भांपते हुए आपातकाल लागू करने की घोषणा की है।

वहां के सात राज्यों में सतर्कता के आदेश जारी किये गये हैं।

स्थानीय निवासियों की शिकायत है कि इस लाल शैवाल की भाप हवा में मिलने के बाद सांस लेने में दिक्कत पैदा कर रही है।

इस शैवाल के फैलने के हर इलाके में मछलियों के मरने की भी खबर है।

कुछ इलाकों में तो समझा जा रहा है कि इस लाल शैवाल की वजह से सारी मछलियां मर चुकी हैं।

यूं तो यह लाल शैवाल हमेशा से ही समुद्र में होती है।

इस बार अचानक वे इतनी अधिक मात्रा में कैसे हो गयी, यह वैज्ञानिक जांच का विषय बना हुआ है।

इसकी चपेट में आने वालों में सबसे अधिक कछुए प्रभावित हुए हैं।

समुद्री तट से करीब तीन सौ कछुए मरे पाये गये हैं।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.