fbpx Press "Enter" to skip to content

बाढ़ ने लील लिये असम के पांच हजार से अधिक गांव

  • अब तक पांच सौ करोड़ से अधिक का वार्षिक नुकसान

  • लोगों की जमीन, घर और रोजगार सभी हो गये गायब

  • तेज बारिश में बहुत तेज हो गया है जमीन का कटाव

  • पीएम मोदी और अमित शाह ने दिया है मदद का भरोसा

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटीः बाढ़ ने असम के पांच हजार से अधिक और सही संख्या 5635 गांवों को अपने

साथ बहा दिया है। इस साल के इस महीने में असम में बाढ़ और भूस्खलन ने 112 लोगों

की जान ले ली और पचपन लाख नौ हजार छह सौ लोग विस्थापित हुए है। ब्रह्मपुत्र और

बराक नदी में 50 से अधिक संख्या में सहायक नदियाँ हैं, जो हर साल मानसून की अवधि

में बाढ़ की तबाही का कारण बनती हैं।

असम लगभग पूरी तरह से नदी घाटियों में बसा है। असम का भौगोलिक क्षेत्र 78,438 वर्ग

किमी है, जिसमें से 56,194 वर्ग किमी ब्रह्मपुत्र घाटी से आच्छादित है। दो पहाड़ी जिलों के

साथ,बराक नदी घाटी राज्य का शेष 22,244 वर्ग किमी बनाती है। दो नदियों, 48 प्रमुख

सहायक नदियां और कई सहायक नदियां इसकी घाटियों में बहने के साथ, असम का नदी

नेटवर्क राज्य के बाढ़-ग्रस्त क्षेत्र का लगभग 40 फीसदी हिस्सा छोड़ देता है।

बाढ़ ने असम में ब्रह्मपुत्र के कटाव के कारण 5635 गांव खो गए हैं

आज तक, असम के जल संसाधन विभाग ने राज्य की क्षरण समस्याओं से निपटने के

लिए कोई दीर्घकालिक उपाय लागू नहीं किया है। विभाग ने 4,473 किमी नए तटबंधों का

निर्माण किया है और अब तक 655 किमी तटबंधों को मजबूत किया है। विभाग के

अनुसार, हालांकि, किनारों के कटाव के कारण तटबंध आमतौर पर टूट गए हैं। बाढ़ और

नदियों के कटारे के गंभीर समस्या को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काल मुख्यमंत्री

सर्बानंद सोनोवाल से बातचीत की और सभी सहायता की आश्वासन भी दिया। इस बीच

गृह मंत्री अमित शाह ने असम को हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। शाह ने कहा कि

मोदी सरकार असम की जनता के साथ दृढ़ता से खड़ी है। उन्होंनने आज असम के

मुख्यसमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से बातचीत की और बाढ़ के हालात की जानकारी ली। आज

सुबह सभी मदद के लिए उसके द्वारा आश्वासन दिया है।

[subscribe2]

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

One Comment

... ... ...
%d bloggers like this: