Press "Enter" to skip to content

म्यानमार सीमा पर असम राइफल्स ने पांच आतंकियों को गिरफ्तार किया

  • मिजोरम के जंगल में हथियारों का जखीरा बरामद

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : म्यानमार सीमा पर वहां की तख्ता पलट के बाद असम राइफल ने सतर्कता को

और बढ़ा दिया है। म्यानमार से भारत आने वाली सभी सड़कों के एंट्री प्वाइंट को सील कर

दिया गया है। म्यांमार के नागरिक अवैध तरीके से भारत में न घुस सकें, इसकी सारी

जिम्मेदारी असम राइफल पर है। दरअसल, भारत और म्यांमार के बीच 1600 किलोमीटर

की अंतरराष्ट्रीय सीमा है, जो कि देश के चार राज्यों से लगती है। इसलिए असम राइफल

की ज़िम्मेदारी और बढ़ गई है। साथ ही उग्रवादियों के मूवमेंट पर भी कड़ी नजर रखी जा

रही है। भारत और म्यानमार के बीच कुल 72 बॉर्डर पिलर है, जिनमें से 32 मिज़ोरम में है।

सीमा पर किसी तरह की कोई घुसपैठ न हो सके इसलिए हर मौसम में असम राइफल के

जवान घने जंगलों और नदियों के रास्ते अपनी सीमा पर पेट्रोलिंग करते हैं। इस समय

असम असम राइफल्स और मिजोरम पुलिस के संयुक्त अभियान में म्यानमार सीमा के

लावंगतलाई जिले के सीमावर्ती गांव से पांच आतंकियों को हथियारों और गोला-बारूद के

साथ गिरफ्तार किया गया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सी. लालरुआत्किमा ने बताया

कि घुसपैठिए म्यांमार में सशस्त्र संगठन अराकान लिबरेशन आर्मी (एएलए) के कैडर होने

के संदेह के चलते पकड़े गए और उन्हें भारत और म्यानमार सीमा से लगे दक्षिणी

मिजोरम के लावंगतलाई जिले के काकिछुआ गांव से पकड़ा गया था। उन्होंने कहा कि

सुरक्षाकर्मियों ने एएलए कैडरों के कब्जे से एक 9 एमएम की पिस्तौल, एक प्वाइंट 38

रिवॉल्वर, 55 राउंड गोलियां और चार जिंदा ग्रेनेड बरामद किए हैं।

म्यानमार सीमा से पकड़े गये उग्रवादी अदालत में पेश

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने कहा कि चरमपंथियों को लवंगतलाई में जिला अदालत में

पेश किया गया और उनके खिलाफ शस्त्र अधिनियम और विदेशी अधिनियम की विभिन्न

धाराओं के तहत आरोप लगाए गए थे। कोर्ट ने सुरक्षा अधिकारियों द्वारा आगे की

पूछताछ के लिए उन्हें पुलिस हिरासत में भेज दिया है। 

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from मिजोरमMore posts in मिजोरम »
More from म्यांमारMore posts in म्यांमार »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!