fbpx Press "Enter" to skip to content

प्लास्टिक कारखाना में भीषण विस्फोट में पांच मरे

  • तीन किलोमीटर तक कांप गया था पूरा इलाका

  • कारखाना का मालिक घटना के बाद फरार

  • जांच के लिए कोलकाता से आ रही है टीम

  • सभी घायल मेडिकल कॉलेज में दाखिल

प्रतिनिधि

मालदाः प्लास्टिक कारखाना में हुए भीषण विस्फोट में वहां पांच मजदूरों की मौत हो

गयी। इस घटना में पुरुष और महिला मिलाकर कमसे कम दस लोग और गंभीर रुप से 

घायल हुए हैं। घटना के तुरंत बाद मृतकों के परिवारों को दो दो लाख मुआवजा और घायलों

को पचास हजार क्षतिपूर्ति का एलान भी राज्य सरकार की तरफ से कर दिया गया है।

भीषण विस्फोट की यह घटना आज सुबह करीब 11 बजे की है। कालियाचक थाना के

सुजापर ग्राम पंचायत के स्कूल पाड़ा इलाके में यह प्लास्टिक कारखाना था। राष्ट्रीय

राजपथ 34 के बगल में स्थित इस प्लास्टिक कारखाना में विस्फोट होने के बाद कारखाना

के मालिक आलिफ शेख इलाका छोड़कर भाग गया है, ऐसा पुलिस ने कहा है।

घटना की सूचना मिलते ही बंगाल के मंत्री फिरहाद हकीम घटनास्थल के लिए रवाना हो

चुके हैं। दरअसल पुलिस और जिला प्रशासन भी इस प्लास्टिक कारखाना के विस्फोट की

गहन जांच करने में जुट गया है। इस काम के लिए कोलकाता से भी फोरेंसिक विशेषज्ञों की

एक टीम यहां पहुंचने वाली है। प्रारंभिक तौर पर यह माना जा रहा है कि इस प्लास्टिक

कारखाना की कटिंग मशीन के अत्यधिक गर्म होने की वजह से ही यह विस्फोट हुआ है।

प्लास्टिक कारखना का संचालन अवैध था

स्थानीय लोगों का आरोप है कि अवैध तरीके से यह कारखाना राष्ट्रीय राजमार्ग के बगल

में संचालित हो रहा था। इस हादसे में जो लोग मारे गये हैं, उनमें राजीव खान (18 वर्ष),

मुस्तफा शेख (40 वर्ष), अब्दुल रहमान (28 वर्ष) और अजीजुर रहमान (13 वर्ष) की

पहचान हो चुकी है। एक मृतक की पहचान अब तक नहीं हो पायी है। जो लोग घायल हुए हैं

उनमें अबू शाहिद, मुसा शेख, प्रमीला मंडल, जुलि बेवा, जुलेखा बीबी का नाम पता चला है।

सभी घायल इसी ग्राम पंचायत इलाके के रहने वाले हैं। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक यह 

विस्फोट इतना भीषण था कि करीब तीन किलोमीटर दूर तक का इलाका इससे कांप गया

था। आस पास के कई घरों के कच्चे छत भी इस विस्फोट में उड़ गये हैं। कारखाना के अंदर

रखा सब कुछ बिल्कुल नष्ट हो गया हैं। कारखाना के अंदर घायल मजदूरों को निकालने में

भी काफी परेशानी हुई क्योंकि ईंट और लोहे के खंभों के नीचे वे दब गये थे। घायलों को

किसी तरह निकालने के बाद स्थानीय नागरिकों ने ही उन्हें अस्पताल भेजने का प्रबंध

किया। सूचना पाकर पुलिस और दमकल के लोग वहां पहुंचे।

पुलिस अधीक्षक आलोक राजोरिया ने घटनास्थल का दौरा करने के बाद बताया कि

कारखाना में हादसे के वक्त करीब बीस लोग काम कर रहे थे। घायलों को मालदा मेडिकल

कॉलेज में दाखिल करा दिया गया है, जहां उनका ईलाज चल रहा है

[subscribe2]

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: