fbpx Press "Enter" to skip to content

गाजियाबाद में तब्लीगी जमातियों के खिलाफ एफआईआर

लखनऊः गाजियाबाद में तब्लीगी जमातियों के खिलाफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद

राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

सरकार ने नर्सो और महिला डाक्टरों को जमात के लोगों के उपचार से हटाने का आदेश दिया है।

इस बीच सूत्रों ने शुक्रवार को कहा कि शुक्रवार को राज्य में मिले 34 नये कोरोना पाजीटिव मामलों में से

अधिकतर तब्लीगी जमात से जुड़े मरीज है।

किंग जार्ज मेडिकल यूनीवर्सिटी (केजीएमयू) में आइसोलेशन वार्ड के प्रभारी डा सुधीर सिंह ने बताया कि

पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से पीड़ति 34 नये मरीजों की पहचान की गयी है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री गाजियाबाद और अन्य स्थानों पर

जमातियों द्वारा किये गये र्दुव्यवहार से काफी खिन्न है और उनको कानून का पाठ पढाने को कहा है।

श्री योगी ने कहा ‘‘ ये लोग न तो कानून का पालन करते है और न ही इन्हे सिस्टम पर विश्वास है।

गाजियाबाद की घटना निंसदेह खेदजनक है और सरकार को दोषियों के खिलाफ रासुका के तहत मुकदमा दर्ज करना होगा।

हम ऐसे तत्वों को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ’’ उन्होने अधिकारियों से कहा कि अस्पताल में जमात के लोगों का

इलाज करने के लिये महिला डाक्टरो,नर्सो और अन्य महिलाकर्मियों को कतई न लगायें।

गाजियाबाद में तब्लीगी जमात के लोगों की सर्वत्र निंदा

गाजियाबाद की इन घटनाओं की जानकारी सार्वजनिक होने के बाद देश के हर हिस्से से ऐसी हरकतों की कड़ी निंदा की गयी है।

इन घटनाओं पर प्रतिक्रिया देने वाले अनेक लोगों ने यह सवाल भी खड़ा कर दिया है कि

धार्मिक आयोजन में भाग लेने वाले ऐसे लोग कौन सी धार्मिक सीख लेकर आये हैं।

महिलाओं और खासकर स्वास्थ्य सेवा से जुड़ी महिलाओं के साथ ऐसी हरकत को

अक्षम्य अपराध मानते हुए ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की सिफारिश भी की गयी है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat