चोरों को सबक सीखाने के लिए नासा के इंजीनियर ने किया कमाल

चोरों को सबक सीखाने के लिए नासा के इंजीनियर ने किया कमाल
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • दरवाजे से पैकेट चुराया तो फंसेंगे बहुत बुरे

  • सामने वाले पर चमकीला रंग बिखेर देगा

  • कैमरा रिकार्ड करता है सारी गतिविधि

  • उल्टा खोला तो तेज बदबू से होंगे परेशान

प्रतिनिधि

नईदिल्लीः चोरों की हरकतों से नाराज एक इंजीनियर ने ऐसा कमाल कर दिया, जो अब पूरे अमेरिका में धमाल मचा रहा है।

नासा के एक पूर्व इंजीनियर द्वारा तैयार की गयी मशीन रातोंरात लोकप्रियता के शिखर पर पहुंची है।

दरअसल यह मशीन नहीं बल्कि इस मशीन के काम करने का वीडियो सार्वजनिक हुआ है।

चोरों की प्रतिक्रिया और बाकी बातें यूट्यूब के वीडियो में देखें

नासा के पूर्व अभियंत्र मार्क रोबर ने अपने घर के दरवाजे से पैकेज चुराने वालों को सबक सीखाने के लिए इसे तैयार किया था।

इसका वीडिया सामने आते ही यह बात भी सार्वजनिक हो गयी कि

अमेरिका के अनेक स्थानों पर लोगों को दूसरों के घर के दरवाजे पर रखे पैकेट चुराने की आदत है।

इस चोरी में शामिल अधिकांश लोग पेशेवर चोर भी नहीं हैं।

लेकिन किसी सुनसान इलाके में दरवाजे के बाहर रखे पैकेट को चुराने का लोभ वे नहीं संभाल पाते।

वैसे इस मशीन की सबसे बड़ी विशेषता इसे गलत ढंग से खोलने में है।

रोबर ने इसमें अत्यंत दुर्गंध का एक स्प्रे भी लगा रखा है।

इस स्प्रे से इंसानी हवा छोड़ने से ज्यादा बदबू निकलती है, जिसे सहन कर पाना संभव नहीं होता।

स्प्रे भी लगातार पांच बार यह दुर्गंध छोड़ती है।

मशीन के अंदर रखी कैमरों में चोरों के इसकी चपेट में आने की घटना भी रोचक तरीके से रिकार्ड की गयी है।

रोबर ने अपने प्रयोग के तहत अपने घर के दरवाजे के बाहर रखे पैकेट को चोरी करने वाले

अलग अलग लोगों के अलग अलग अनुभव भी सांझा किये हैं।

चोरों के अनुभव की वीडियो रिकार्डिंग भी रोचक

अनुमान लगाया जाता है कि पैकेट चोरों को अलग अलग अनुभव की रिकार्डिंग उपलब्ध होने की वजह से ही यह वीडियो इतना लोकप्रिय हुआ है।

रोबर ने अपने इस आविष्कार का नाम ग्लिटर बम ट्रैप रखा है।

रोबर काफी समय से यूट्यूब पर काफी सक्रिय हैं।

इसलिए मशीन के ईजाद की सोच और उसकी तकनीक को भी उन्होंने इस मंच पर सांझा किया है।

रोबर ने बताया कि एक पैकेट यहां आने के बाद भी जब उन्हें नहीं मिला

तो उन्होंने अपने घर के बाहर लगे कैमरे की बारिकी से जांच की।

जांच में दिख गया कि एक युवक और एक युवती वहां आये।

युवक बाहर की खड़ा रहा जबकि युवती ने वह पैकेट उठाया और दोनों उसे लेकर चलते बने।

वह इस सीसीटीवी फुटेज को लेकर पुलिस के पास भी गये थे।

वहां से कोई उत्साहजनक मदद नहीं मिलने के बाद रोबर ने इस किस्म के चोरों को सबक सीखाने के लिए

इस मशीन को तैयार करना प्रारंभ किया।

कई किस्म के अनुसंधान और फेरबदल के बाद इस मशीन को अंततः तैयार कर लिया गया।

इस मशीन में ऊपर की तरफ एक यंत्र रखा है जो अनधिकृत व्यक्ति द्वारा पैकेट को खोलते ही अपने आस पास चमकीले रंग बिखेर देता है।

इससे पैकेट को ले जाने वाला भी इस रंग की चपेट में आ जाता है।

इस यंत्र में अंदर की तरफ एक मोबाइल कैमरा भी लगा हुआ है।

पैकेट को स्पर्श करते ही यह अपना काम चालू कर देता है।

इस यंत्र का बदबू सबसे खतरनाक

ताकि पैकेट ले जाने वाले की गतिविधियों को रिकार्ड किया जा सके और उसकी आवाज भी रिकार्ड हो।

इस मोबाइल को नीचे रखे एक संयंत्र से जोड़ा गया है,

जो हल्के से झटके में ही अंदर मौजूद सारे यंत्रों को चालू कर देता है।

ताकि चुपचाप पड़े रहने की अवस्था में इन सारी मशीनों की बैटरी निरर्थक खर्च नहीं हो।

इसके अंदर एक जीपीएस पद्धति भी है,

जिसकी मदद से उस पैकेट को कहां ले जाया जा रहा है, उसकी निरंतर जानकारी मिलती रहती है।

यानी पैकेट को लेकर भागने वाले की तमाम गतिविधि रिकार्ड और प्रसारित होती रहती है।

रोबर ने इस पैकेट को चुराने वाले की तमाम गतिविधियों को मशीन के अंदर सुरक्षित रखने तक का इंतजाम किया है।

ताकि किन्हीं कारणों से अगर इसे नष्ट भी किया जाए तो

एक छोटे से यंत्र में सारा आंकड़ा सुरक्षित रहे और उसे फिर से बरामद किया जा सके।

इस पूरी घटना का वीडियो यूट्यूब पर डाले जाने के कुछ ही देर में इसे दस लाख से अधिक लोगों ने देखा है

और उनमें से अधिकांश ने इसे पसंद भी किया है।

लोगों द्वारा की गयी टिप्पणियों से ही पता चला है कि

दरअसल अमेरिका में अनेक लोग इस किस्म की चोरी से परेशान भी हैं।

इन्हें भी पढ़ें

युवा वैज्ञानिकों ने बना डाला एक डॉलर का माइक्रोस्कोप

मधुमक्खियों की पीठ पर उड़ेगा नई प्रजाति का ड्रोन

हिमालय के क्षेत्र में कभी भी आ सकता है बहुत बड़ा भूकंप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.