fbpx Press "Enter" to skip to content

पूर्व मंत्री चंद्रशेखर उर्फ ददई दूबे पर लगा ससुराल की जमीन हथियार के बल पर हड़पने का आरोप

  • खुद श्री दूबे ने इसे ने इसे बताया बहुत बड़ी साजिश का हिस्सा

राष्ट्रीय खबर

श्री बंशीधर नगर : पूर्व मंत्री चंद्रशेखर दूबे उर्फ ददई दूबे के ससुराल पक्ष के लोगों ने उन पर

रायफल के बल पर जमीन हड़पने जैसे गंभीर किस्म के आरोप लगाए हैं। हालांकि ददई दूबे

ने अपने उपर लगे आरोपों बेबुनियाद करार देते इसे उनके खिलाफ बहुत बड़ी साजिश का

हिस्सा करार दिया है। ददई दूबे के ससुराल पक्ष के उनके चाचा ससुर रामसूरत द्विवेदी,

राजी द्विवेदी व अन्य ने जिले के डीसी और खरौंधी थाने में आवेदन देकर ददई दूबे की

शिकायत की है। अपने आवेदन में उनलोगों ने लिखा है कि ददई दूबे करीबी रिश्तेदार हैं। वे

उनलोगों की खरौंधी थाना अंतर्गत ढिलवासोती में स्थित पैतृक जमीन को हड़पना चाह रहे

हैं। आरोप है कि वे राइफल का भय दिखाकर पूरे गांव की जमीन को परती रखे हुए हैं।

उनलोगों को जान से मारने की धमकी भी दे रहे हैं। श्री दूबे के ससुराल वालों का कहना है

कि ददई दूबे का जो हक बनता है उससे उनलोगों को आपत्ति नहीं है। लेकिन वे अपने

हिस्से की जमीन पूर्व में ही बेच चुके हैं उसके बावजूद भी वे हमलोगों की जमीन हड़पना

चाहते हैं।

उनलोगों ने कहा कि न्याय और जानमाल की हिफाजत के लिए वे लोग डीसी और थाना

का दरवाजा खटखटाते चुके हैं। खरौंधी थाने में सनहा दर्ज कराया गया है। उनलोगों ने

सीएम हेमंत सोरेन से न्याय दिलाने की गुहार लगाई है।

पूर्व मंत्री ददई दूबे ने कहा ससुराल की जमीन से कोई लेना देना नहीं

पूर्व मंत्री चंद्रशेखर दुबे उर्फ ददई दुबे ने आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए इसे अपने खिलाफ

बहुत बड़ी साजिश बताया है। उन्होंने कहा कि उन्हें ससुराल की जमीन से कोई लेना देना

नहीं है। यदि उन्हें ससुराल की जमीन का लोभ लालच होता तो ससुर के जिंदा रहते अपने

अंडर में कर लेते। ससुर के मरे 20 साल हो गए जिन लोगों ने बीस साल तक खाया आज

आरोप लगा रहे हैं। भला बेटी का भी हक कोई खाता है? उन्होंने कहा कि उनके ससुर

मालिक थे। उन्होंने जीवन में ईमानदारी के सिवाय कुछ नहीं कमाया। उन्होंने सबको

जमीन दिया है। जो आरोप लगा रहे हैं उनको भी दिया है। अपना हक अपनी तीनों बेटियों

को लिख दिया है। श्री दूबे ने कहा कि उनकी पत्नी तीन बहने हैं सबसे छोटी उनकी पत्नी

है। तीनों पिता की दी हुई जमीन ले रहीं हैं। आरोप लगाने वाले लोग तीनों बेटियों का हक

20 साल से खा रहे थे। एक पैसा कभी मालगुजारी नहीं दिया। एक छटाक अनाज नहीं दिया

और कुछ भी नहीं किया। 20 साल खाए थे अब छटपटा रहे हैं एकता बनाकर उनका का

नाम उछाल रहे हैं यह बहुत बड़ी साजिश है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from गढ़वाMore posts in गढ़वा »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »
More from बयानMore posts in बयान »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: