fbpx Press "Enter" to skip to content

हर कदम पर कोई कातिल है, कहाँ जाये कोई

हर कदम पर संभलकर चलना तो इंडियन पॉलिटिक्स की मजबूरी है। बेचारी ममता दीदी,

जरा सा असावधान हुई तो पैर पर प्लास्टर चढ़ गया। लेकिन वह भी एक हजार जिद्दी की

एक जिद्दी हैं। पहले ही कह दिया था कि व्हील चेयर पर ही चुनाव प्रचार करेंगी और अपना

कोई भी कार्यक्रम रद्द नहीं करेंगी। ईश्वर भला करे कि अस्पताल से अब छुट्टी मिल गयी है।

लेकिन देखना है कि अब हर कदम पर संभलकर चलते हुए वह फिर से बंगाल के सत्ता की

सीढ़ी पर ऊपर चढ़ पाती हैं अथवा नहीं। वैसे उनका पहले का रिकार्ड तो यही बताता है कि

इस किस्म की मारपीट से उनकी पॉलिटिकल सेहत पर कोई खास फर्क नहीं पड़ने वाला है।

इसके पहले भी वाम मोर्चा के शासन में वह लगातार मार खाती रही और एक दिन ऐसा

आया कि वाम मोर्चा को ही अकेले के बलबूते पर सत्ता से उखाड़कर फेंक दिया। इसलिए

भाजपा को यह समझ लेना चाहिए कि उनका पाला एक ऐसे प्रतिद्वंद्वी से पड़ा है तो दांत

पर दांत लगाकर अंतिम दम तक संघर्ष करता है, मैदान छोड़कर इतनी आसानी से तो नहीं

जाने वाला है। शायद इसी वजह से चुनावी पंडित यह मान रहे हैं कि उतार चढ़ावों के बाद

भी अंततः पश्चिम बंगाल के सत्ता की लॉटरी फिर से ममता बनर्जी को भी मिलने वाली

है। इसके बीच दोनों तरफ से खेला होबे का नारा लगता रहेगा। रही बात असम की तो वहां

सर्वानंद सोनोवाल अथवा हिमंत बिस्वा सरमा में से कौन विधायक दल का नेता होगा,

इसी पर हर कदम पर खतरा मंडरा रहा है। चुनाव के पहले बोड़ोलैंड वाले भी हर कदम का

साथ देने का वादा तोड़कर अलग जा चुके हैं। यानी 11 विधानसभा क्षेत्रों में अब भाजपा को

अपने बलबूते पर चुनाव जीतने की जिम्मेदारी अतिरिक्त है।

हर कदम की ऐसी फिसलन को सभी चुनावी राज्यों में है

दूसरी तरफ महागठबंधन का कुनबा हाल के दिनों में मजबूत होने की वजह से ऐसा भी

कहा जा सकता है कि हर कदम पर आगे बढ़ना भी भाजपा के लिए कठिन होता जा रहा है।

बाकी सब तो सामान्य सा ही है। क्योंकि शेष दो राज्यों में पहले से ही भाजपा को कुछ खास

लाभ नहीं मिलना है, यह तय था।

सनी देओल की एक्शन फिल्म अर्जुन पंडित के लिए इस गीत को लिखा था जावेद अख्तर

ने। गीत को संगीत में ढाला था दिलीप सेन ने और उसे स्वर दिया था प्रीति और उत्तम

सिंह ने

गीत के बोल कुछ इस तरह हैं।

हर कदम पर कोई कातिल है, कहाँ जाये कोई
हर कदम पर कोई कातिल है कहाँ जाये कोई
जिन्दा रहना जिन्दा रहना बड़ा मुश्किल है
कहाँ जाये कोई हर कदम पर कोई कातिल है
कहाँ जाये कोई

हाल-इ-दिल कोई चुप्पै तोह चुप्पै कैसे

जख्म को फूल बताये तोह बताये कैसे
उठ के महफ़िल से उठ के महफ़िल से कोई जाये
तोह जाये कैसे कोई रास्ता है
कहाँ जाये कोई हर कदम पर कोई कातिल है
कहाँ जाये कोई यह घडी जिस में
ना तुम्हारा है कोई कोई हमदर्द नहीं है
ना सहारा है कोई कोई उम्मीद नहीं है
कोई उम्मीद नहीं है ना इशारा है कोई
सोच में डूबा हुआ दिल है कहाँ जाये कोई
हर कदम पर कोई कातिल है कहाँ जाये कोई
जिन्दा रहना बड़ा मुश्किल है कहाँ जाये कोई
हर कदम पर कोई कातिल है कहाँ जाये कोई।।

अब हर कदम के खतरे को समझते हुए कौन कहां जाता है, इसकी चर्चा तो बिहार के लिए

भी जरूरी है। भाई उपेंद्र कुशवाहा अपनी पार्टी का विलय जदयू में करने का एलान क्या कर

बैठे, उनके अपनों ने उनका साथ छोड़ना प्रारंभ कर दिया। यानी कुशवाहा की अपनी पार्टी

रालोसपा में भी जदयू के मुकाबले राजद के चाहने वालों की तादाद अधिक रही है। अब

देखना यह है कि कुशवाहा जी के साथ कितने जदयू में शामिल होते हैं।

चलते चलते किसान आंदोलन की भी चर्चा जरूरी है

चलते चलते किसान आंदोलन की भी चर्चा कर लें क्योंकि यह हर कदम पर भाजपा की

नैय्या डूबा रहा है, इसके आसार बढ़ते ही जा रहे हैं। बेचारे मोटा भाई ने अपनी चाणक्य

नीति की किताब से हर दांव आजमा लिये लेकिन खेत खलिहानों से सीखने वाले किसानों

ने हर चाल नाकाम कर दी। उल्टे पंजाब में तो पार्टी का डब्बा गुल हो गया। हरियाणा में

सहयोगी दल के विधायक भी उल्टे सुर में राग अलाप रहे हैं। सामने अब उत्तर प्रदेश का

पंचायत चुनाव भी आ रहे हैं। जहां के भाजपा नेता यह मान रहे हैं कि फिलहाल किसानों के

आंदोलन की वजह से गांव देहात में जाना उनके लिए आसान नहीं रह गया है। अब मोदी

जी को कोई तो समझाये कि हर कदम आगे बढ़ाने के बाद पीछे नहीं हटने की बात इंडियन

पॉलिटिक्स में हर बार कामयाब नहीं होती। जब चीन आगे बढ़ने के बाद पीछे हट सकता है

तो अपनी कुर्सी बचाने के लिए मोदी जी को हर कदम पर फैसला सोच समझकर ही लेना

चाहिए।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from चुनाव 2021More posts in चुनाव 2021 »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

... ... ...
%d bloggers like this: