fbpx Press "Enter" to skip to content

हर चीज की कीमतों में बढ़ोत्तरी के खिलाफ कांग्रेस आंदोलन करेगी

रांचीः हर चीज की कीमतों में जो बढ़ोत्तरी हो रही है, उसके खिलाफ प्रदेश कांग्रेस समिति

पूरे राज्य में आंदोलन करेगी। प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल

किशोर नाथ शाहदेव, डा राजेश गुप्ता छोटू ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के व्यापक

दवाब,सोशल मीडिया पर स्पीक अप फोरफ्री यूनिवर्सल वैक्सीनेशन कैंपेन पर 130 करोड़

जनता का मिला व्यापक समर्थन एवं सुप्रीम कोर्ट की तल्ख टिप्पणियों के बाद एवं श्रीमती

सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी के पिछले दो महीने से लगातार प्रधानमंत्री जी का ध्यान

आकृष्ट कराते रहने के उपरान्त कल प्रधानमंत्री ने फ्री वैक्शीनेशन की घोषणा की

है,कांग्रेस पार्टी पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस, सरसों तेल,दाल सहित बढ़ती महंगाई को लेकर

प्रदेश कांग्रेस कमिटी डा रामेश्वर उराँव के नेतृत्व में पूरे प्रदेश में आन्दोलन करेगी।

वीडियो में देखिये प्रदेश प्रवक्ता ने इस पर क्या कहा

कोरोना महामारी के दौरान भले ही हम सड़कों फर निकलकर आन्दोलन नहीं कर सकते हों

लेकिन सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से,वर्चुअल धरना व विरोध प्रदर्शन,

महामहिम राष्ट्रपति एवं राज्यपाल के समक्ष एवं अन्य माध्यमों से भी प्रदेश कांग्रेस

कमिटी बढ़ती महंगाई को लेकर आन्दोलन करेगी। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता

आलोक कुमार दूबे ने कहा पिछले 13 महीनों में पेट्रोल 24.90 और डीजल 23.09 रुपए प्रति

लीटर कीमत बढ़ाए गए हैं जो सरकार की मुनाफाखोरी को दर्शाता है. 2014 में कच्चे तेल

की कीमत जब 108 रुपये प्रति बैरल हुआ करती थी तब यूपीए शासनकाल में पेट्रोल

₹71.51 पैसे प्रति लीटर और डीजल ₹55. 49 पैसे प्रति लीटर उपलब्ध हुआ करती

थी,लेकिन केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पेट्रोल और डीजल पर 7 साल में अनर्गल टैक्स

लगाकर 22 लाख करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया है,जबकि पिछले 7 सालों में कच्चे तेल

20 रुपये से ₹65 रुपये प्रति बैरल के नीचे आ गया,यहां तक कि एक बार तो 10 रुपये प्रति

बैरल तक कच्चे तेल की कीमत हो गई थी।

हर चीज के दाम बढ़े जबकि जबकि कच्चा तेल का दाम घटा था

इसके बावजूद देश की जनता को कोई फायदा नहीं मिला उल्टे पेट्रोल और डीजल की

कीमत ₹100 के आसपास पहुंच गई है और 73 वर्षों में पहली बार ऐसा हुआ है कि पेट्रोल

और डीजल की कीमतें बराबर हो गई है जिसके वजह से खाध पदार्थों से लेकर हर चीज की

कीमतें बढ़ गई हैं। कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता लाल किशोर नाथ शाहदेव ने कहा मई 2020

से मई 2021 के बीच खाद्य तेलों की कीमतों में भी 60 से 70% तक की बढ़ोतरी हुई है।

सरसों तेल की कीमत 1 साल में ₹115 से बढ़कर ₹200 रुपये प्रति किलो,पाम आयल

₹50 से बढ़कर ₹138, सूरजमुखी तेल ₹100 से बढ़कर ₹175, वनस्पति डालडा ₹90 से

बढ़कर ₹140 रुपये किलो और सोयाबीन तेल एक ₹100 से बढ़कर ₹155 पहुंच गई है

जिसके वजह से पकौड़ा का धंधा भी मंदा पढ़ गया है, दाल की कीमतों में भी बेतहाशा वृद्धि

हुई है चना दाल ₹70 से बढ़कर ₹90 किलो अरहर दाल ₹90 से बढ़कर ₹120 और मसूर

दाल ₹65 से ₹90 हो गए हैं जिससे आम लोगों के रसोई पर व्यापक प्रभाव पड़ा है। प्रदेश

कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता डॉ राजेश गुप्ता छोटू ने कहा 1अप्रैल 2014 में पेट्रोल पर

एक्साइज ड्यूटी ₹9.48 पैसे लिए जाते थे और आज जून 2021 में 32.90 वसूले जाते हैं

और डीजल में 1 अप्रैल 2014 में 3.56 से जून 2021 में एक्साइज ड्युटी बढ़ाकर 31.80

रुपये हो गये हैं, वहीं रसोई गैस की कीमत 400 रुपये से बढ़ाकर 900 रुपये पहुंच गया है

जिसके वजह से महिलाओं का बजट गड़बड़ा गया है।डा गुप्ता ने कहा प्रदेश कांग्रेस कमिटी

बढ़ती महंगाई को लेकर कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए आन्दोलन की रुपरेखा

तय करेगी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: