Press "Enter" to skip to content

यूरोपीय कोर्ट का निष्कर्ष पूर्व जासूस की हत्या में रुस का हाथ था




लंदनः यूरोपीय कोर्ट अब इस नतीजे पर पहुंची है कि रुस के पूर्व जासूस की लंदन में हुई हत्या में रुस




का ही हाथ था। सोवियत संघ की गुप्तचर संस्था केजीबी के पूर्व जासूस का नाम अलेकजेंडर

लिटविनेकोव था जो वर्ष 2006 में मृत पाया गया था। उस वक्त उसके पास से मौजूद ग्रीन टी के

नमूनों में रेडियोधर्मी पदार्थ पाये गये थे। अब इस पूरे मामले की जांच और सुनवाई पूरी होने के बाद

यूरोपीय कोर्ट ने इसके लिए रुस को जिम्मेदार ठहराया है।

यूरोपीय कोर्ट इसके लिए तीन लोगों की पहचान की है

मानवाधिकार पर काम करने वाली यूरोपीय कोर्ट ने माना है कि चाय में रेडियोधर्मी पदार्थ दिये जाने

की वजह से ही रुस के उस पूर्व जासूसी की मौत हुई थी। यानी दूसरे शब्दों में उसे ग्रीन टी में ही जहर

दिया गया था, जो उसकी दर्दनाक मौत का कारण बना। इससे पूर्व ब्रिटिश पुलिस ने एक रुसी

नागरिक को इसके लिए जिम्मेदार ठहराते हुए अभियुक्त बनाया है। दूसरी तरफ एक डबल एजेंट

सेरेगेई स्क्रीपाल की मौत की गुत्थी को भी पुलिस ने सुलझा लेने का दावा किया है। इसके लिए जिन

तीन लोगों की पहचान की गयी है, वे सभी रुस की सैनिक गुप्तचर संस्था से जुड़े हुए लोग ही थे।




बता दें कि रुस के प्रशासन के फैसलों का विरोध करते हुए अलेकजेंडर लिटविनेकोव की मौत लंदन

के एक बड़े होटल में हुई थी जबकि वह ग्रीन टी पी रहा था। ब्रिटिश सरकार ने पहले से ही यह आरोप

लगाया था कि इस मौत के लिए रुस ही जिम्मेदार है। ब्रिटिश जांच अधिकारियों ने लंदन के

यूनिवर्सिटी कॉलेज अस्पताल में उसे मौत के पूर्व भी देखा था और उसके शरीर पर वह सभी निशान

उभर आये थे जो किसी  रेडियोधर्मिता के प्रभाव का संकेत दे रहे थे। इस पर उस दौरान काफी चर्चा

भी हुई थी क्योंकि रेडियो  एक्टिव पदार्थ का जहर देकर किसी को मार डालने की यह पहली घटना

थी। मौत से पूर्व खुद उस  व्यक्ति ने पुलिस को यह बताया था कि खुद ब्लादिमीर पुतिन ने ही अपने

निर्देश के अनुसार किसी  खास दल को इस काम के लिए भेजा था। यूरोपीय कोर्ट ने उन तमाम

साक्ष्यों की भी जांच की है,  जिसे ब्रिटिश जांच अधिकारियों ने एकत्रित किया था। इससे यह स्पष्ट हो

गया था कि रुस से  भागकर आये इस पूर्व जासूस की उसी पद्धति से हत्या कर दी गयी है।



More from अदालतMore posts in अदालत »
More from ब्रिटेनMore posts in ब्रिटेन »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: