fbpx Press "Enter" to skip to content

चुनावी सभाओं से कोरोना भयभीत है क्या

चुनावी सभाओं में हो रही जबर्दस्त भीड़ के बाद भी कोरोना गाइड लाइनों के पालन की

चिंता किसी को नहीं है। मंच पर आसीन नेताओं को नीचे साफ दिखता होगा कि लोग एक

दूसरे के करीब सटकर खड़े अथवा बैठे हैं। लेकिन जहां जहां चुनावी सभाओं का आयोजन

हो रहा है, वहां वहां कोरोना संक्रमण के बढ़ने के रिकार्ड नहीं आ रहे हैं। साफ शब्दों में कहें

तो क्या चुनावी सभाओं के जरिए राजनीतिक लाभ उठाने के लिए इस कोरोना संक्रमण के

आंकड़ों और जांच के इन चुनावी इलाकों में नजरअंदाज किया जा रहा है। वरना भारत में

कोविड-19 संक्रमण के नए मामले रिकॉर्ड तेजी से बढ़ रहे हैं और महज 25 दिन में इनकी

तादाद 20,000 रोजाना से बढ़कर 1,30 हजार का आंकड़ा पार कर गई है। इस वजह से

महाराष्ट्र और दिल्ली समेत देश के कई इलाकों में आंशिक लॉकडाउन और कर्फ्यू लागू

किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य के मुख्यमंत्रियो के साथ अपनी बैठक में

यह स्पष्ट कर दिया है कि फिलहाल जो इंतजाम हैं, उसकी वजह से लॉकडाउन जैसे कठोर

नियमों को लागू करने की कोई आवश्यकता नहीं है। इसके बावजूद धार्मिक कार्य और

चुनाव जो कोविड के प्रसार में निर्णायक भूमिका निभा रहे हैं, उन्हें कोविड-19 प्रोटोकॉल से

एक तरह से छूट प्राप्त है। आधिकारिक रूप से 1 अप्रैल से शुरू हुए महाकुंभ मेले तथा

खासतौर पर असम और बंगाल के चुनाव प्रचार में मास्क पहनने और शारीरिक दूरी जैसे

बुनियादी मानकों तक का पालन होता नहीं दिखता। ऐसा तब हो रहा है जब सामान्य

नागरिकों को प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर जुर्माना भरना पड़ रहा है और कई लोग

रोजगार गंवाने और रोजगार के कम अवसरों से परेशान हैं।

चुनावी सभाओं को छोड़कर सभी में गाइड लाइन पर कड़ाई है

इस बीच कोविड-19 की दूसरी लहर ने आपूर्ति शृंखला को बाधित करना तथा छोटे और

मझोले उपक्रमों को संकट में डालना शुरू कर दिया है। महाकुंभ इस बात का प्रबल और

स्पष्ट उदाहरण है कि कोविड-19 के समय में कैसे लोग नियंत्रणहीन तरीके से भीड़ लगा

रहे हैं। शुरुआती दौर में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कह दिया था कि कुंभ

में आने वालों के लिए जांच आवश्यक नहीं है। इस संबंध में होर्डिंग लग गए और न केवल

हरिद्वार बल्कि उत्तराखंड में भी कोविड-19 के मामले बढऩे लगे। स्वयं मुख्यमंत्री और

कई नागा साधू कोविड संक्रमित पाए गए। हालांकि केंद्र ने रावत के आदेश को तत्काल रद्द

कर दिया और कहा कि हर श्रद्धालु को 72 घंटे पुरानी आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखानी होगी

और मास्क तथा शारीरिक दूरी का पालन करना होगा। लेकिन तब तक देर हो चुकी थी।

जनवरी में करीब 700,000 लोगों ने गंगा नदी में पवित्र स्नान किया और अप्रैल में

निर्धारित स्नान में 50 लाख लोगों के शामिल होने की आशा है। घाट पर स्नान के दौरान

सीमित स्थान पर इतनी बड़ी तादाद में लोगों के एकत्रित होने पर सुरक्षा मानकों के पालन

की बात सोची भी नहीं जा सकती। यदि सरकार जवाबदेही समझती तो 2020 की कांवड़

यात्रा की तरह महाकुंभ रद्द कर देती। असल फर्क यह है कि महाकुंभ के पहले केंद्र और

राज्य सरकारों ने पर्यटन के बुनियादी ढांचे में जमकर निवेश किया है। इसे रद्द करने का

मतलब होता स्थानीय पर्यटन कारोबार को नुकसान। यह चिंतित करने वाली बात है

लेकिन सरकार कहीं अधिक कल्पनाशील विकल्प पर विचार करते हुए महाकुंभ का

आयोजन न होने से बचने वाले प्रशासनिक व्यय को हर्जाने के रूप में वितरित कर सकती

थी।

चुनावी रैली और महाकुंभ पर सरकारें कुछ नहीं कर रही है

महाकुंभ के मामले में प्रशासनिक स्तर पर वैसा रुख नजर नहीं आता जबकि नई दिल्ली में

गत वर्ष मार्च में तबलीगी जमात के लोगों के एकत्रित होने पर जबरदस्त सांप्रदायिक

आलोचना हुई थी। ध्यान दें कि रमजान के आसपास मक्का गए श्रद्धालुओं को उमरा से

पहले टीका लगाया जाएगा या उन्हें यह प्रमाण देना होगा कि वे हाल में कोविड से पीडि़त

रह चुके हैं। सबसे बड़ी विडंबना यह है कि महाकुंभ में न्यूनतम सुरक्षा प्रोटोकॉल लागू किए

जाने पर द्वारका के शक्तिशाली शंकराचार्य नाराज हो गए। उन्होंने प्रतिबंधों की

आवश्यकता पर प्रश्न करते हुए कहा कि जब प्रधानमंत्री मोदी और ममता बनर्जी की

रैलियों में इनका उल्लंघन हो रहा है तो इनकी क्या जरूरत है। उन्होंने तंज किया कि

वायरस चुनाव के दौरान नदारद हो जाता है और फिर वापस आ जाता है। उनकी बात में

दम है। जब देश के सबसे ताकतवर नेता अनदेखी कर रहे हों तो प्रोटोकॉल कैसे लागू किया

जाए। अभी भी बड़े पैमाने पर टीकाकरण होना शेष है। कोरोना की दूसरी लहर आर्थिक

सुधार को प्रभावित कर सकती है। फिलहाल तो यही लग रहा है कि धर्म और राजनीति ने

जन स्वास्थ्य को संक्रमित कर रखा है। इसलिए यह सवाल स्वाभाविक है कि क्या वाकई

चुनावी सभाओं से कोरोना नहीं फैलता है। ताली थाली बजाने के कसरत करने वाली जनता

के मन में यह स्वाभाविक सा सवाल है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from चुनाव 2021More posts in चुनाव 2021 »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

One Comment

... ... ...
%d bloggers like this: