fbpx Press "Enter" to skip to content

त्याग और बलिदान का पर्व है ईद उल अजहा- मुन्तजिर अहमद रजा

प्रतिनिधि

ओरमांझीः त्याग और बलिदान का पवित पर्व ईद उल अजहा क्षेत्र में शांतिपूर्ण और सद्भाव

के साथ शनिवार को मनाया गया। लॉक डाउन व कोरोना बीमारी के बढ़ते संक्रमण के

चलते इस साल मस्जिदों व ईदगाहों में पांच- छः लोग ही ईद उल अजहा की नमाज अदा

किये । बाकी लोग अपने – अपने घरों में ईद की दो रिकत नमाज अदा किए । नमाज के

बाद नमाजियों ने देश की खुशहाली एकता व भाईचारगी के साथ कोरोना बीमारी से जूझ

रहे मरीजों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए दुआएं मांगी। फिर खुदा की राह में अपने व अपने

पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए जानवरों की कुर्बानी किए। कोरोना बीमारी के चलते

इस साल ईद उल अजहा की रौनक दुकानों चौक चौराहों पर देखने को नही मिला दुकानें

नहीं सजी जिसके चलते बच्चों एवं लोगों में उत्साह देखने को मिला लोग अपने अपने घरों

में ही ईद की खुशियां परिवार वालों के साथ मनाया और अपने रिश्तेदारों दोस्तों को

मोबाइल से ही ईद उल अजहा की मुबारकबाद दिए लोग गले नहीं मिले। लोगों ने कहा कि

जिंदगी रही तो बेहतर तरीके से अगले साल हंसी खुशी हर्षोल्लास के साथ बकरीद का पर्व

मनाएंगे। इस साल पूरी सतर्कता बरतते हुए अपने ही परिवार के साथ त्यौहार मनाएंगे।

त्याग और बलिदान के पर्व पर अहमद रजा ने दी बधाई

वही ईद उल ईद उल अजहा के पावन अवसर पर ओरमांझी प्रखंड के पूर्व उपप्रमुख

वअंजुमन इस्लामिक सेंट्रल कमेटी के सेक्रेटरी मुन्तजिर अहमद रजा ने कहा कि ईद उल

अजहा हजरत इब्राहिम और उनके लखते जिगर एकलौता बेटा हजरत इस्माइल की खुदा

की राह में कुर्बानियों की याद में पूरे दुनिया के मुस्लिम धर्मालंबियों द्वारा बनाया जाता है।

वहीं उन्होंने कहा कि पर्व के मौके पर आसपास के गरीब असहाय लोगों की दिल खोलकर

मदद करें एवं जानवरों दी गई कुर्बानी में उन्हें भी शामिल करें। वहीं उन्होंने पुलिस प्रशासन

के लोगों को शांतिपूर्ण तरीके से ईद उल अजहा का पर्व संपन्न कराने पर आभार व्यक्त

किया।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

Leave a Reply