Press "Enter" to skip to content

भगत सिंह की जयंती पर डीवाईएफआई ने विचार गोष्ठी किया आयोजित







कोडरमा : भगत सिंह की जयंती पर भारत की जनवादी नौजवान सभा (डीवाईएफआई) ने कोडरमा

मे शहीदे आजम भगत सिंह की 114वीं जन्मशती पर याद करते हुए एक  विचार गोष्ठी आयोजित किया।

सर्वप्रथम शहीद भगत सिंह के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित किया गया।

जहां शहीद भगत सिंह अमर रहे, शहीदों तेरे अरमानों को मंजिल तक पहुंचाएंगे, शहीदों लेलो लाल सलाम आदि नारे लगाए जा रहे थे।

डीवाईएफआई के राज्य सचिव संजय पासवान ने कहा कि भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर को हुआ था

और हिंदुस्तान की आजादी के लिए 24 वर्ष की उम्र में हस्ते हस्ते फांसी पर चढ़ गए और शहीद हो गए।

आजादी के दीवानों का सपना था कि भारत देश आजाद होगा तो एक ऐसा समाज का निर्माण होगा, जहां मनुष्य के द्वारा मनुष्य का शोषण नहीं होगा।

सबको एक समान शिक्षा और रोजगार की गारंटी होगी, हर खेत में पानी पहुंचेगा और खुशहाली आएगी, लेकिन वह सपना आज भी अधुरा है।

केन्द्र की भाजपानीत मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों के कारण बेरोजगारी की फौज खड़ी हो गई है, कोरोना काल में 12 करोड़ लोगों का रोजगार छीन गया है।

इसके खिलाफ देश में युवा आंदोलन तेज करना होगा। एसएफआई के नेता मुकेश कुमार यादव ने

कहा कि नई शिक्षा नीति से गरीब व किसान के बेटे उच्च शिक्षा से वंचित हो जायेंगे और शिक्षा मुट्ठी भर अमीर लोगों के लिए रह जाएगा।

डीवाईएफआई के जिला सचिव सुरेन्द्र राम ने कहा कि हमें नौजवानों को संगठन से जोड़ना होगा

और उन्हें भगत सिंह के विचारों से अवगत कराकर क्रांतिकारी आंदोलन के लिए प्रेरित करना होगा।

डीवाईएफआई के जिलाध्यक्ष परमेश्वर यादव ने कहा कि आज देश फिर से गुलामी के रास्ते पर जा रहा है,

मोदी सरकार की सत्यानाशी नीति के खिलाफ समाज के हर वर्ग को आगे आना होगा।



More from कोडरमाMore posts in कोडरमा »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: