Press "Enter" to skip to content

दुर्गापूजा के मौके पर बांग्लादेश से इलिश मछली भारत आयी, देखें वीडियो




50 ट्रकों में लादकर लायी गयी मछली
बेनापोल में उनकी गुणवत्ता की जांच हुई
इस बार भी इलिश का पैदावार पहले से बेहतर
राष्ट्रीय खबर

ढाकाः दुर्गापूजा के मौके पर बांग्लादेश ने काफी मात्रा में इलिश मछली भारत भेजने की अनुमति दी है। इसके तहत पहली खेप में 209 मेट्रिक टन मछली को बेनापोल बंदरगाह के रास्ते से भारत भेजा गया है।




वहां पर मछलियों की जांच कर उन्हें निर्यात के लायक पाये जाने के बाद ही उन्हें भारत जाने की अनुमति प्रदान कर दी गयी है। इसके तहत पहली खेप में 23 टन इलिश मछली भारतीय सीमा में लायी गयी है।

बांग्लादेश के बाजार में इलिश मछली का हाल

उसके लिए 50 ट्रकों में लादकर 209 मैट्रिक टन मछली को वहां पहुंचाया गया था। बांग्लादेश सरकर ने 17 निर्यातकों को इसकी अनुमति दी है। बांग्लादेश के जो इलिश मछली भारत भेजी जा रही है, सभी एक से डेढ़ किलो वजन वाले हैं। उन्हें दस अमेरिकी डॉलर प्रति किलो की दर से भारत भेजा जा रहा है।

वैसे बांग्लादेश में भी अभी इलिश मछली का औसत भाव पांच सौ रुपये प्रति किलो चल रहा है। बेनापोल बंदरगाह पर कस्टम्स कमिशनर मोहम्मद अजीजुर रहमान ने दुर्गापूजा के मौके पर इलिश मछली भारत भेजे जाने की पुष्टि की है।




सरकार की तरफ से सभी संबंधित विभागों को इसके बारे में खास निर्देश भी दिया गया है। इस संबंध में बेनापोल में मौजूद मत्स्य निदेशक अधिकारी असवादुल इस्लाम ने कहा कि दुर्गापूजा के मौके पर गत 20 सितंबर को ही सरकार ने भारत तक इलिश निर्यात की अनुमति प्रदान की थी।

दुर्गापूजा के मौके पर मिली छूट 10 अक्टूबर तक

इसके लिए बांग्लादेश के 52 निर्यातकों का चयन किया गया है। हर निर्यातक को चालीस टन इलिश मछली निर्यात की अनुमति प्रदान की गयी है। उसके बाद भारत में उसकी मांग और देश में इलिश मछली की उपलब्धता को देखते हुए देश के अन्य 63 निर्यातकों को भी यही अनुमति गुरुवार को दी गयी है।

इस तरह दुर्गापूजा के मौके पर बांग्लादेश से भारत कुल 2 हजार 520 टन इलिश मछली भेजी जाएगी। इस बार सरकार की खास पहल की वजह से बांग्लादेश में इलिश मछली का उत्पादन भी बेहतर हुआ है।

दरअसल सरकार ने इन मछलियों के अनियमित शिकार पर रोक लगा रखी है। इससे सही मौसम में इलिश मछली समुद्र और नदी के मुहाने पर अधिक जन्म लेकर बड़ी हुई है।

अब उनके शिकार के मौसम में बांग्लादेश के मछुआरे आसानी से इसका शिकार सरकार द्वारा स्थापित नियमों के तहत कर रहे हैं। इस वजह से मुहानों पर इलिश मछली की बहुतायत है और वही मछली बाजारों तक भी पहुंच रही है। आगामी 10 अक्टूबर तक मछली के निर्यात का यह नियम लागू रहेगा।



More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from बांग्लादेशMore posts in बांग्लादेश »
More from भोजनMore posts in भोजन »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: