Press "Enter" to skip to content

डुमरी के युवक ने बोकारो की युवती से दहेज़ रहित विवाह कर प्रस्तुत किया आदर्श

डुमरीः डुमरी के युवक ने दहेज रहित विवाद कर एक आदर्श प्रस्तुत किया है। एक ओर

जहां समाज में दहेज के बढ़ते प्रचलन से आर्थिक रूप से कमजोर कन्या के पिता के लिए

अपनी पुत्री की शादी कराने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, तो वहीं आए

दिन विभिन्न संचार माध्यमों में पढ़ने व सुनने को मिलता है कि दहेज के कारण अमुक

लड़की जला दी गई या फिर लड़की ने आत्महत्या कर ली। जबकि दहेज रूपी दानव के

कारण भ्रूण हत्याएं भी कर दी जाती है।आज दहेज का प्रचलन दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहा

है। लेकिन समाज में कुछ ऐसे ही लोग हैं जो बिना दहेज का शादी करके समाज में एक

आदर्श प्रस्तुत करते हैं।इन्हीं लोगों में एक हैं डुमरी निवासी बबन भगत। जिन्होंने अपने

पुत्र मुकेश भगत की शादी बिना दहेज के बोकारो जिला के जैनामोड़ निवासी बालमुकुंद

जायसवाल की पुत्री रानी जायसवाल कर समाज में एक आदर्श प्रस्तुत किया है।इस संबंध

में मुकेश का कहना है कि वर्तमान समय में समाज में दहेज उत्पीड़न के मामले देखने व

पढ़ने को मिलता है। जिससे मन काफी व्यथित हो उठता था। वहीं उन्होंने युवा वर्ग से

अपील की है कि वे भी दहेजमुक्त समाज के निर्माण में अपनी भूमिका निभायें और दुल्हन

ही दहेज है की नीति पर चलकर दहेज हत्या व दहेज उत्पीड़न के मामले पर अंकुश लगाने

का काम करें।

डुमरी के युवक के विवाह को लोगों ने प्रेरणा बताया

इधर इस आदर्श विवाह पर भाजपा नेता प्रशांत जायसवाल, कामाख्या गिरि, शिक्षाविद

सर्वेश तिवारी, महेन्द्र मंडल, थानेश्वर महतो, लालेश्वर महतो, महेन्द्र बिंद, सामाजिक

कार्यकर्ता वेदप्रकाश पाठक,देवेश कुमार झामुमो युवा मोर्चा के प्रखंड अध्यक्ष राजकुमार

मेहता माले नेता नागेश्वर महतो आदि ने सराहना करते हुए इसे समाज के लिए एक

प्रेरणा बताया है।

Spread the love
More from गिरिडीहMore posts in गिरिडीह »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version