Press "Enter" to skip to content

गर्मी के दस्तक के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल की संकट उत्पन्न 

कुंडहित  (जामताड़ा) :गर्मी के दस्तक के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल की संकट

उत्पन्न हो गया। पेयजल केलिये ग्रामीणों कों चापाकल के सामने बाल्टी लेकर घंटो

इन्तेजार करना पड़ता है। तब जाकर ग्रामीणों का प्यास बुझता है।कुंडहित प्रखंड के

बिक्रमपुर पंचायत अन्तर्गत थालपोता गांव मे तालाब, कुआ सुख जानेसे गावं मे पानी का

संकट उत्पन्न हो गया है। गांव मे तीन ही तालाब है जो फरवरी महिना मे पुरी तरह से सुख

गया। तीनों तालाब सुख जाने पर स्नान करने तथा कपड़े धोने के लिये सोचना पड़ रहा है।

साथ ही मवेशियों को पानी पीलाने के लिये एक किलोमिटर दुर बिक्रमपुर तालाब जाना

पड़ता है। गांव मे कुल सात चापाकल मे पांच चापाकल महिनों से पाईप खराब तथा अन्य

कारणो से बंद पड़ा हुआ है। दो चापाकल पर पुरी गावं के पेयजल, स्नान, तथा अन्य कार्यो

मे उपयोग के लिये पानी लेते है। दो चापाकल पर पुरी गांव का पानी लेने के लिये लोगो का

चापाकल के सामने इन्तेजार करना पड़ता है। क्या कहते है ग्रामीण- दिलीप घोष, साबित्री

घोष, मनिका वाउरी, सुकुरमनी हेम्बरम, प्रतिमा हेम्बरम, करुण घोष आदि ने बताया गांव

मे सात चापकल है। जिसमे पांच चापाकल महिनों से खराब हो जाने पर दो चापाकल पर

गांव मे 60 परिवार आश्रित है।

गर्मी के दस्तक के साथ ही मवेशियों के लिये पानी की व्यवस्था करना पड़ता

दो चापाकल से पेयजल, कापड़ा धोना, स्नान करना तथा मवेशियों के लिये पानी की

व्यवस्था करना पड़ता है। ग्रामीणो ने बताया खराब चापाकल को मिस्त्री बुलाकर ठीक

किया जाता है। लेकिन दो चार दिन चलने के बाद पुनः खराब हो जाता है। ग्रामीणो ने

बताया गांव मे तीन तालाब है लेकिन तीनों तालाब फरवरी महिना मे सुख गया है। तालाब

सुख जाने के कारण दो चापाकल पर पानी के लिये कतार लगना पड़ता है। लम्बे समय से

बारिश नही होने के कारण सारे तालाब सुख चुके है। गांव मे जो भी चापाकल है वह भी

पानी कम दे रही है। एैसी परिस्थिति मे गांववालो को प्यास कैसे बुझेगी।क्या कहते है

मुखिया बिक्रमपुर के मुखिया सोनामुनी हांसदा ने बताया खराब चापाकलके पाइप बदला

जा रहा है। लेकिन चापाकल मे पानी की लेयर नीचे चल जाने पर पानी कम दे रही है। चार

चापाकल मे पाइप बदला गया है। और जरुरत पड़े तो पाइप बदलाजायेगा। क्या कहते है

अधिकारी कनीय अभियंता कालिचरण भगत ने बताया ग्रामीणों केशिकायत पर चापाकल

मरम्मति किया जा रहा है। जैसे जैसे शिकायत आता है वैसे वैसेचापाकल की मरम्मति

कार्य स्थानीय मिस्त्री द्वारा किया जा रहा है।

 

Spread the love
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from जामताड़ाMore posts in जामताड़ा »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from साहिबगंजMore posts in साहिबगंज »

One Comment

... ... ...
error: Content is protected !!