fbpx Press "Enter" to skip to content

डीआरआई ने 1.85 करोड़ का सोना के साथ दो स्वर्ण तस्करों को दबोचा







कोलकाताः डीआरआई की टीम ने दो दिनों के दौरान राजधानी कोलकाता से सटे क्षेत्रों में दो स्वर्ण तस्करों को

गिरफ्तार किया है। इनके साथ ही इनके पास से साढ़े चार किलो से अधिक के सोने के बिस्कुट और अन्य

सामान बरामद किए गए हैं। इसकी कीमत करीब 1.85 करोड़ रुपये है।

इस सोने को बांग्लादेश से तस्करी कर कोलकाता लाया जा रहा था।

इस बारे में रविवार को डीआरआई के पूर्वी क्षेत्रीय उपनिदेशक पार्थ प्रतिम बसु ने जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि पहली गिरफ्तारी 17 अक्टूबर को राजधानी कोलकाता से 18 किलोमीटर दूर बिराटी में हुई।

डीआरआई की कोलकाता इकाई को सूचना मिली थी कि दीपावली के मद्देनजर बांग्लादेश से बड़ी मात्रा में

सोने की तस्करी कर कोलकाता के बड़ाबाजार में लाया जा रहा है जहां बेचा जाएगा।

इसके बाद पूरे रैकेट पर निगरानी शुरू कर दी गई। एक टाटा मिनी ट्रक को रोका गया

जो बनगांव से कोलकाता की ओर आ रही थी। इसे सुफल हालदार नाम का एक व्यक्ति चला रहा था।

पुख्ता सूचना होने की वजह से उसकी तलाशी ली गई तो उसके कपड़ों के अंदर छिपाकर रखे गए सोने के

40 बिस्किट बरामद हुए जिसका वजन 4.66 किलो था और कीमत एक करोड़ 84 लाख 75 हजार 775 रुपये

आंकी गई है।

उसके बाद उससे मैराथन पूछताछ शुरू की गई तो उसने बिराटी के ही माणिक सिल नाम के व्यक्ति के बारे में

बताया जिसके पास सोने को ले जाया जा रहा था।

डीआरआई की टीम ने वहां भी छापेमारी की और सील को धर दबोचा गया।

उसके घर से सोने को छिपाने के लिए बनाए गए विशेष पैकेट्स को भी बरामद किया गया।

डीआरआई की टीम को पूछताछ में और जानकारी भी मिली है

दोनों ने प्रारंभिक पूछताछ में स्वीकार कर लिया है कि पैसा कमाने के लिए पूर्वोत्तर भारत के विस्तृत इलाके

में स्वर्ण तस्करी करते रहे हैं। उन्होंने बताया है कि राजधानी कोलकाता और आसपास के क्षेत्रों में स्वर्ण तस्करी

का एक बड़ा गिरोह सक्रिय है जिसके लिए ये काम करते हैं।

उनसे पूछताछ कर उन लोगों के बारे में भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है।

डीआरआई ने पूर्वोत्तर भारत में इस वर्ष अब तक 95 किलो सोने को बरामद किया है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

One Comment

Leave a Reply