बीएनआर चाणक्य में पेट्रोलियम मंत्रालय का जागरुकता कार्यक्रम आयोजित

बीएनआर चाणक्य में पेट्रोलियम मंत्रालय का जागरुकता कार्यक्रम आयोजित
Spread the love
  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    5
    Shares
  • आज का संचय ही कल हमारे काम आयेगा- डॉ जीतू चरण राम

  • एक ईंधन को दूसरी में बदलना भी जरूरी

  • अगली पीढ़ी की सुविधा पर ध्यान देना होगा

  • आगामी 15 तक चलेगा जनजागरण

संवाददाता

रांचीः बीएनआर चाणक्य में आयोजित एक कार्यक्रम में कांके विधायक डॉ जीतू चरण राम ने ईंधन की बचत की बात कही।

उन्होंने कहा कि आने वाले पचास वर्षों के बाद हमें ईंधन की कमी का सामना करना पड़ेगा।

यदि हम अभी से संचय की प्रवृत्ति पर काम करें तो आने वाली पीढ़ी तो इसके लिए कम संघर्ष करना पड़ेगा। व

ह पेट्रोलियम मंत्रालय के तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

उन्होंने ईंधन के संचय के साथ साथ एक ईंधन को दूसरी ऊर्जा में तब्दील करने की भी बात कही।

डॉ राम ने कहा कि जबतक हमें भूख नहीं लगती तबतक हम कम नहीं करेंगे, इस सोच को बदलने की जरूरत है।

आज हमारे पास संचय का समय है इसलिए हमें अभी से ही इसकी आदत डाल लेनी चाहिए।

वरना आने वाले दिनों में अगली पीढ़ी को कठिन चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा।

कार्यक्रम में राज्यस्तरीय संयोजक श्यामलाल देवनाथ ने भी उपस्थित लोगों को संबोधित किया।

उन्होंने इसी क्रम में भारत की तेल कंपनियों द्वारा किये जाने वाले कार्यों की भी विस्तार से जानकारी दी

औऱ लोगों को ईंधन की बचत के प्रति प्रेरित किया।

इस कार्यक्रम में विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राएं भी शामिल हुए।

जनजागरुकता का यह कार्यक्रम आगामी 15 फरवरी तक चलता रहेगा।

इस क्रम में वहां गुब्बारे भी उड़ाये गये तथा रथ को झंडी दिखाकर रवाना किया गया।

बीएनआर चाणक्य के अलावा रेडिशन ब्लू में भी हुआ कार्यक्रम

दूसरी तरफ होटल रेडिशन ब्लू में भी इंडियन ऑयल की तरफ से एक सम्मेलन का आयोजन किया गया।

इस सम्मेलन में 10वें नगर गैस वितरण बोली चक्र के रोड शो के लिए जानकारी दी गयी।

यहां झारखंड की गतिविधियों की जानकारी दी गयी।

यह बताया गया कि पीएनजीआरबी द्वारा पुरस्कृत होने वालों में पूर्वी सिंहभूमन, रांची, बोकारो, हजारीबाग, रामगढ़, गिरिडीह और धनबाद मौजूद है।

इसके अलावा 10वें चक्र के लिए पलामू, चतरा, कोडरमा, देवघर औऱ सरायकेला खरसांवा के अलावा पश्चिमी सिंहभूम शामिल किये गये हैं।

दरअसल झारखंड में जो आयोजन हो रहा है वह कंपनी के राष्ट्रीय आयोजन का ही एक हिस्सा है।

ई बोली लगाने की यह प्रक्रिया गत 8 नवंबर 2018 को प्रारंभ की गयी है।

इसकी अंतिम तिथि 5 फरवरी 2019 है।

यह जानकारी कंपनी की मुख्य प्रबंधक (सीसी, पीएंड सी) वीणा कुमारी ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.