fbpx Press "Enter" to skip to content

दोशीला देवी को न्याय नहीं मिला तो सपरिवार आत्मदाह करेंगी

बेरमो/ललपनिया: दोशीला देवी उर्फ जोशीला देवी ने अपने माता- पिता की संपति का

बंटवारे में मिला हिस्से की जमीन को हक़ पाने के लिए अपने ही सौतेली मां तथा सौतेले

भाईयो से दो-दो हांथ करने पड़ रहे हैं। इधर जमीन बंटवारा होने के बाद भी हक नही मिलने

पर पीड़ित परिवार दोशीला देवी द्वारा आत्मदाह करने की भी बात सामने आ रही है।

वीडियो में देखिये वह क्या कह रही हैं

पीड़ित परिवार ने पत्र जारी कर बताया है की उनके ही सौतेली मां एवं सौतेले भाइयो के

द्वारा जमीन बंटवारा में मिला हिस्से के जमीन नही दि जा रही है,इतना ही नहीं उनके

हिस्से की सारे जमीन को हड़पने की कोशिसभी किया जा रहा है एवं जान से भी मारने की

लगातार धमकिया दी जा रही है। जबकी न्याय के लिए पीड़िता के पक्ष में अब तक कीसी

के द्वारा कोई भी सुनवाई नहीं की गयी है,जिस कारण पीड़ित परिवार बहुत दुखी हैं।

बंटवारे में मिला हिस्से की जमीन दिलाने तथा न्याय की मांग को लेकर पीड़िता ने

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल, मुख्य मंत्री सहित उपायुक्त बोकारो, अनुमंडल

पदाधिकारी बेरमो, अंचल अधिकारी गोमिया,थाना प्रभारी गोमिया को भी पत्र दी है। जहां

शासन-प्रशासन द्वारा कारवाई होने के बावजूद न्याय नही मिला। जिसे देख पीड़िता

दोशीला देवी ने अपने परिवार समेत आत्म दाह करने की चेतावनी दे डाली है।

दोशीला देवी ने मीडिया के सामने अपनी पीड़ा रखी

वही इस सम्बंध में मंगलवार को पीड़िता, उनके पुत्र गणेश यादव ने मीडिया कर्मियों के

समक्ष अपनी व्यथा को सुनाते हुए पत्र दी है। इधर पीड़िता दोशीला देवी ने शासन-प्रशासन

को लिखे पत्र में साफ कहा गया हैकि अगर इसमामले में समय रहते उनको न्याय नहीं

मिला तो अंततः अगामी पांच अप्रैल को परिवार समेत साड़म संतोषी मंदिर के सामने

दोप हर 1:38 बजे आत्मदाह कर लेगें। जिसकी सारी जिम्मेदारी स्थानीय प्रशासन की

होगी।इसकी लिखित सूचना पीड़िता ने मंगलवार को बेरमो अनुमंडल पदाधिकारी,

एसडीओ,बेरमो अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, गोमिया बीडीओ, सीओ तथा गोमिया थाना

प्रभारी को देते हुए जांचो-परांत उचित कार्यवाही करते हुए हिस्से की भूमि पर दखल कार

करवानें की मांग की है।

संक्षेप में जान लीजिए क्या है यह मामला

पीड़िता दोशीला देवी ने बताया कि मै मंगरी देवी पति रामेश्वर गोप की पुत्री हूँ और मेरे

माता पिता ने मुझे अपने ही घर मे मेरे पति को घर जमाई के रूप में रख मुझे कुल रकवा

साढ़े 54 डिसमिल जमीन घर व बाडी सहित बतौर इकरारनामा एवं बटवारानामा हासिल

है। कहा मेरे पिता रामेश्वर गौप दो विवाह किये थे। वर्तमानमें दोनो पत्नी के बाल-बच्चेदार

है और दोनों पत्नियों के बीच जमीन जगह एवं घर मकान को लेकर आपस मे झगड़ा

झंझट हमेशा होते आ रहा है,जिसका उचित बंटवारा पंचायतके पूर्व सरपंच उमाशंकर

प्रसाद की अध्यक्षतामें गांव के गणमान्य पंचो के द्वारा रामेश्वर गोप ने वीते 5 मई 2006

को बैठक कर कागजतो के मुताबिक दोनों पक्षों के बीच में मकान,बाड़ी व धनखेत जमीन

को दो-दो हिस्से में बंटवारा कर दिया था। इसके बावजूद दोशीला देवी के द्वारा बंटवारा में

मिला अपने हिस्से की जमीन पर किसी तरह का कोई काम करने जाते हैं तो, उनके दूसरे

पक्ष के सौतेली माता व भाईयो द्वारा हमेशा गाली गलौज,मारपीट एवं धमकी देने तथा

जमीन से बेदखल कर देने के लिए लड़ाई झगड़ा करते हैं। जिसे देख गाव के ग्रामीणों द्वारा

भी कई बार बैठक कर समझौता करकेे शांत कराया गया परंतु नही माने। ऐसे में न्यायकी

आश में बैठी पीड़िता दोशीला देवी का अब न्याय मिलने की आशा धूमिल होते नजर आ

रही है, जिसमें पीड़िता व परिवार के सदस्यों का मानसिक संतुलन बिगड़ता जा रहा है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बोकारोMore posts in बोकारो »
More from महिलाMore posts in महिला »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: