fbpx Press "Enter" to skip to content

डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम कमिटी का फैसला मुहर्रम का जुलूस नहीं

  • अधिकांश सदस्यों की राय से लिया गया यह फैसला

  • अन्य धार्मिक कार्यक्रम सोशल डिस्टेंसिंग के तहत

  • कोई भी ढोल नगाड़ा लाउडस्पीकर नहीं बजायेगा

संवाददाता

रांचीः डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम कमिटी के तत्वावधान में दिनांक 9 अगस्त दिन रविवार को

डोरंडा स्थित उर्दू लाइब्रेरी डोरंडा में हुई। इस बैठक में आगामी मुहर्रम 2020 के सिलसिले

में एक आवश्यक बैठक कमिटी के अध्यक्ष अशरफ अंसारी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई।

जिसमें डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम कमिटी के तत्वावधान में आने वाले तमाम क्षेत्रीय खलीफा,

अखाड़े के अध्यक्ष, सचिव के साथ साथ प्रमुख लोग शोसल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए

बैठक में मुख्य रूप से उपस्थित हुए। बैठक में डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम कमिटी के अधीन आने

वाले तमाम क्षेत्रीय खलीफा , विभिन्न अखाड़ों के सदर , सेक्रेटरी व गणमान्य लोगों ने

आगामी मुहर्रम 2020 में निकाले जाने वाले जुलंस के सिलसिले में अपने अपने विचार

व्यक्त किए एवं कहा कि कोविड 19 के तहत कोरोना जैसी महामारी को ध्यान में रखते हुए

इस वर्ष के मुहर्रम का जुलूस नहीं निकाला जाए । उक्त बैठक को संबोधित करते हुए डोरंडा

सेंट्रल मुहर्रम कमिटी के अध्यक्ष अशरफ अंसारी ने कहा कि कोविड 19 के तहत कोरोना

जैसी महामारी को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम कमिटी के तत्वावधान

निकाले जाने वाले मुहर्रम का जुलूस स्थगित किया जाता है अतः इस वर्ष 2020 के मुहर्रम

का जुलूस डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम कमिटी के तत्वावधान में नहीं निकाला जाएगा ।

डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम कमेटी के सभी पदाधिकारी थे मौजूद

सर्वसम्मति से बैठक में उपस्थित तमाम पदाधिकारियों एवं क्षेत्रीय खलीफाओं के साथ

साथ गणमान्य लोगों ने अपनी सहमति दी । बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि हर

वर्ष की तरह इस वर्ष भी मुहर्रम के अवसर पर चाँद की पहली तारीख से लेकर चाँद की

दसवीं तारीख यानी पहलाम तक मुहर्रम से सम्बंधित सभी धार्मिक कार्यक्रम सोशल

डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सभी इमामबाड़ों में नेयाज फातेहा एवं तमाम धार्मिक

कार्यक्रम सम्पन्न किए जाएंगे ।ढोल ताशा पर भी पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दी गई है एवं

यह निर्णय लिया गया कि आगामी मुहर्रम के अवसर पर किसी प्रकार का ढोल,ताशा ,बाजा

लाउडस्पीकर डोरंडा क्षेत्र के किसी भी अखाड़े में नहीं बजाया जाएग।हर वर्ष की तरह इस

वर्ष भी मुहर्रम के अवसर पर चाँद की पाँचवीं तारीख को सभी खलीफा अपने अपने

इमामबाड़े में शोसल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए नेयाज फातेहा के बाद अलम खड़ा

करेंगे एवं चाँद की दसवीं तारीख तक का सारा धार्मिक कार्यक्रम शोसल डिस्टेंसिंग का

पालन करते हुए सम्पनन करेंगे ।बैठक में मुख्य रूप से डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम के सचिव

मुमताज गद्दी, मौलाना मनीरुद्दीन, नसीमुल हक सरफराज, मो. रफीक, मो. नूर, जुनैद

आलम, मो. आबिद, मो. मन्नान, शहनवाज आलम, मो. एकबाल, अय्यूब अंसारी, मो.

कुतुबुद्दीन, मो. नासिर, मो. परवेज, मो. अकबर अंसारी, मोहसिन खान सहित अनेक

क्षेत्रीय खलीफा एवं पदाधिकारी के साथ साथ गणमान्य लोग उपस्थित थे। बैठक में मुख्य

अतिथि के रूप में रांची महानगर कमिटी के प्रधान महासचिव मो. इसलाम भाग लिए एवं

अपने विचार व्यक्त किए । धन्यवाद ज्ञापन कमिटी के सचिव मुमताज गद्दी ने किया। यह

जानकारी मो. अशरफ अंसारी ने अपनी विज्ञप्ति में दी।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from रांचीMore posts in रांची »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!