fbpx Press "Enter" to skip to content

दो महीने के देशव्यापी लॉकडाउन के बाद घरेलू यात्री उड़ानें दुबारा शुरू

नयी दिल्लीः कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ के मद्देनजर लागू देशव्यापी लॉकडाउन के

कारण दो महीने तक स्थगित रहने के बाद महामारी से बचाव के नये नियमों के साथ

घरेलू यात्री विमान सेवा आज दुबारा शुरू हो गयी। दिल्ली के इंदिरा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय

हवाई अड्डे से पहली उड़ान सुबह 4.45 बजे रवाना हुई। देश की सबसे बड़ी विमान सेवा

कंपनी इंडिगो की उड़ान संख्या 6ई-643 ने टर्मिनल-3 से पुणे के लिए उड़ान भरी। यह

एयरबस का ए320 विमान है जिसके सुबह सात बजे पुणे पहुँचने की उम्मीद है। सूत्रों ने

बताया कि तय समय-सारणी के अनुसार, दिल्ली आने वाली पहली उड़ान स्पाइसजेट की

एसजी-8194 होगी जो अहमदाबाद से आ रही है। इसके आने का समय सुबह 7.45 बजे है।

इसके बाद सुबह 7.55 बजे लखनऊ से इंडिगो की 6ई-769 आयेगी। कोविड-19 का संक्रमण

रोकने के लिए सरकार ने 25 मार्च से घरेलू यात्री उड़ानों को पूरी तरह बंद कर दिया था।

अंतर्राष्ट्रीय यात्री उड़ानें 22 मार्च से ही बंद हैं। इस दौरान मालवाहक उड़ानों और विशेष

अनुमति प्राप्त यात्री उड़ानों का परिचालन जारी था।

दो महीने बाद उड़ान चालू में एयर इंडिया को फौरी राहत

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को एयर इंडिया को फौरी राहत देते हुए गैर-अधिसूचित

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में अगले 10 दिनों तक बीच की सीटों पर भी यात्रियों को बिठाकर लाने

की मंजूरी प्रदान कर दी। मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना

और न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय की खंडपीठ ने ईद-उल-फितर की छुट्टी के दिन अर्जेंट सुनवाई

करते हुए एयर इंडिया को यह राहत दी। हालांकि न्यायालय ने स्पष्ट कर दिया कि 10

दिनों के बाद एयर इंडिया को बॉम्बे उच्च न्यायालय के उस आदेश का पालन करना होगा

जिसमें कहा गया है कि यात्रा के दौरान बीच की एक सीट खाली छोड़नी होगी। दिल्ली

खंडपीठ ने उच्च न्यायालय से आग्रह किया कि वह इस मामले का त्वरित निपटारा करे।

इस दौरान नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) को इस बात की छूट दी गयी है

कि वह मामला लंबित रहने के दौरान किसी भी मानदंडों में बदलाव के लिए विचार कर

सकता है। केंद्र सरकार की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता की टोकाटोकी के

बीच न्यायालय ने अपना आदेश लिखवाया और श्री मेहता को कड़ी फटकार भी लगायी।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!