20 महीने बाद शुरू हुई धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन

20 महीने बाद शुरू हुई धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

धनबादः 20 माह बाद धनबाद-चन्द्रपुरा (डीसी) रेल लाइन फिर से शुरू हो गई।

15 जून 2017 को भूमिगत आग और भूधंसान बताते हुए डीजीएमएस की रिपोर्ट के आधार पर

डीसी लाइन को रेल मंत्रालय ने बंद कर दिया था।

एक झटके मे 26 जोड़ी ट्रेन बंद हो गई।

लेकिन 20 महीने के लंबे इंतजार के बाद डीसी लाइन पर रविवार से ट्रेनें चलनी शुरू हो गईं।

दुल्हन की तरह सजी धजी एल्लेपी एक्स्प्रेस ट्रेन को कतरासगढ़ स्टेशन पर गिरिडीह सांसद रवींद्र पांडेय, धनबाद सांसद पशुपतिनाथ सिंह, विधायक राज सिन्हा और बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो ने हरी झंडी दिखाई।

डीसी लाइन पर ट्रेनों के परिचालन को लेकर लोगों में उत्साह दिखा।

आसपास के हजारों लोग तिरंगा लेकर इस खुशी में शामिल होने के लिए कतरासगढ़ पहुंचे थे।

लोगों ने सीएम रघुवर दास, पीएम नरेंद्र मोदी और स्थानीय जनप्रतिनिधियों को धन्यवाद दिया।

पार्षद विनोद गोस्वामी और आसपास के लोगो ने डीजीएमएस, बीसीसीएल और रेलवे के खिलाफ

लगातार धरना-प्रदर्शन शुरू किया।

डीसी रेल लाइन को फिर से चालू करने की मांग को लेकर पिछले 621 दिनों से कतरास के स्थानीय लोग आंदोलन कर रहे थे।

2019 के चुनाव में बीजेपी के नुकसान को देखते हुए आखिरकार सरकार को फैसला बदलना पड़ा।

थम चरण में कुल 8 जोड़ी एक्स्प्रेस और पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन होगा।

इनमें एल्लेपी एक्स्प्रेस, धनबाद-रांची इंटर सिटी, मौर्य, झारग्राम मेमू,

कोलकाता-अहमदाबाद, गोरखपुर-हटिया एक्स्प्रेस, हावड़ा-रांची शताब्दी एक्स्प्रेस,

शक्तिपुंज एक्स्प्रेस, कोलकाता-मदार ट्रेन शामिल है।

1 thought on “20 महीने बाद शुरू हुई धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन

  1. *13303 धनबाद से रांची इंटरसिटी एक्सप्रेस*

    बहुत उम्मीद था इस रूट की सभी Daily passenger को, की फिर से इंटरसिटी एक्सप्रेस अपनी पहले वाली समय में चालू होने वाली है और सभी 9:00 बजे रांची पहुंच जाएंगे और 9:10 बजे खुलकर 9:25 को हटिया पहुंच जाएंगे. पर 24 फरवरी से जिस टाइमिंग है वह बहुत ही खराब टाइमिंग है. कोई जरूरत नहीं है इंटरसिटी को चालू करने का इस टाइम में, क्या करेगा आदमी जाकर. इस टाइमिंग से हजारों यात्री मायूस है और आक्रोष में है। पहले का टाइम चाहिए बस.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.