fbpx Press "Enter" to skip to content

ढाका में नाव डूबने से अनेक लोग मरे तीस लाश निकाले गये

प्रतिनिधि

ढाकाः ढाका में नाव डूबने का एक बड़ा हादसा आज हुआ। यहां के बुड़ीगंगा में एक लॉंच के

बीच नदी में डूब जाने से उस पर सवार अनेक लोग बह गये। इनमें से तीस लाशों को अब

तक पानी से निकाला जा सका है। लोगों का अनुमान है कि इस लॉंच पर पचास से अधिक

लोग सवार थे। मुंशीगंज से खुलने वाले इस यांत्रिक नाव पर सवार लोगों की असली संख्या

का अभी पता लगाया जा रहा है। वैसे नाव डूबने के बाद कुछ लोग तैरकर भी बाहर

निकलने में कामयाब हुए हैं। घटना की सूचना मिलते ही नौसेना और दमकल सेवा के

लोगों ने डूबे हुए लोगों की तलाश का काम प्रारंभ कर दिया था। घटना की सूचना पाकर

कोस्ट गार्ड के ले. कमांडर हयात इब्ने सिद्दकी भी वहां पहुंचे। उन्होंने ही पत्रकारों को

बताया कि अब तक तीस लाशें निकाली जा चुकी है। इनमें दो बच्चे और पांच महिलाएं

शामिल हैं। वैसे इस हादसे में लापता हुए लोगों की तलाश में अब भी राहत अभियान

चलाया जा रहा है। नदी में पानी अधिक होने की वजह से यह राहत कार्य भी काफी

सावधानी के साथ चलाया जा रहा है।

ढाका में यह हादसा दो लांचों की टक्कर से हुआ

बीआइडब्ल्यूची के संयुक्त निदेशक एकेएम आरिफउद्दीन ने बताया कि सुबह करीब नौ

बजे यह नाव मुंशीगंज से खुली थी। सदरघाट टर्मिनल पर पहुंचने के बाद ही चांदीपुर की

तरफ जा रहे एक अन्य लांच मयूर 2 से उसकी टक्कर हो गयी। इस टक्कर में छोटी नाव

तुरंत ही डूब गयी। मयूर 2 को किरानीगंज के डॉकयार्ड में मरम्मत करने के बाद नदी में

उतारा ही गया था। वैसे किरानीगंज के थाना प्रभारी शाह जमान के मुताबिक डूबने वाली

इस नाव पर शायद सत्तर लोग सवाल थे। सूचना पाकर जल परिवहन राज्य मंत्री खालिद

महमूद चौधरी भी घटनास्थल पर पहुंचे थे और उनके निर्देश पर मरने वालों की अंतिम

क्रिया के लिए तीस हजार रुपया स्वीकृत किया गया है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!