fbpx Press "Enter" to skip to content

डिप्टी मेयर के पिता से रंगदारी मांगने वाले आरोपित निकले प्रेमी जोड़े

  • लड़की की शादी दूसरे लड़के से तय हो गई थी

  • आखिर पूरे रंगदारी के मामले में क्या है सच

प्रतिनिधि

भागलपुर : डिप्टी मेयर के पिता हरिओम वर्मा से 50 लाख की रंगदारी मांगने मामले में

जगदीशपुर पुरैनी निवासी एक युवक-युवती हुए गिरफ्तार, जोगसर पुलिस चौकी में चल

रही है पूछताछ। आरोपित युवक का नाम अब्दुल कादिर और युवती की बेबी शफीका है।

वीडियो में जानिये इस पर एसएसपी ने क्या कहा

बता दें कि मंगलवार को हरिओम वर्मा के के निजी नंबर पर 50 लाख रंगदारी मांगी गई

थी। रंगदारी नहीं देने पर दुकान समेत बम से उड़ाने की धमकी दी थी। दोनों आरोपित एक

दूसरे से प्यार करते हैं। सच्चाई पर विश्वास करें तो लड़की की शादी किसी दूसरे लड़के से

तय हो गई थी लड़की ने लड़के को फसाने के उद्देश्य व्हाट्सएप से मैसेज उपमहापौर राजेश

वर्मा के पिता को किया लेकिन जिस मोबाइल से मैसेज किया गया था वह मोबाइल और

सिम लड़के के नाम से था लेकिन मोबाइल फोन का इस्तेमाल लड़के की प्रेमिका कर रही

थी और प्रेमिका को मालूम था कि मेरी शादी दूसरी जगह तय हो गई है। क्या लड़के को

फंसाने के उद्देश्य से लड़की ने खुद मैसेज कर दिया कि लड़का जेल चला जाए क्योंकि

पुलिस ने जब मोबाइल को बरामद किया तो मोबाइल के व्हाट्सएप से मैसेज भी डिलीट

नहीं किया गया था। सवाल तो यह उठता है कि क्या इस वर्तमान युग में कोई भी शातिर

अपराधी इस तरह की गलती करेगा जिस मोबाइल से मैसेज किया जा रहा है उसे डिलीट

भी नहीं किया गया यदि अपराधी को रंगदारी ही मांगनी थी तो दूसरे नाम से इस्तेमाल कर

सिम और मोबाइल से रंगदारी मांगी जा सकती थी या फिर व्हाट्सएप कॉल करके रंगदारी

मांगी जा सकती थी लेकिन पूरे मामले में उच्च स्तरीय जांच कौन करेगा क्योंकि जिस

मोबाइल से मैसेज किया गया और जिसका मोबाइल था दोनों चीज बरामद हो गया है।

डिप्टी मेयर के पिता से रंगदारी मांगने का मोबाइल भी हुआ जब्त

पुलिस को इस से ज्यादा इस मामले में आगे अनुसंधान करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी

लड़का और लड़की को पुलिस ने रंगदारी के मामले में न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया

गया है। लेकिन यदि पूरे मामले में रंगदारी के पीछे की सच्चाई क्या है पुलिस मुख्यालय

इसकी जांच सही तरीके से कराएगा तो और भी कुछ बात सामने आ सकती है? क्योंकि

जिस लड़का और लड़की पुलिस ने जेल भेजा है वह दोनों प्रेमी और प्रेमिका है। इसमें लड़की

की शादी दूसरे लड़के से तय हो गई थी लड़की को अपने प्रेमी से विवाद चल रहा था क्या

लड़की ने अपने प्रेमी को फंसाने के उद्देश्य व्हाट्सएप पर मैसेज तो नहीं किया आखिर पूरे

मामले की जांच उच्च स्तरीय तरीके से करानी चाहिए क्योंकि इससे पहले भी पूर्व एसपी

मनोज कुमार के समय उप महापौर राजेश वर्मा की पत्नी के नंबर पर फोन कर रंगदारी का

मामला एक सामने और आया था जिसमें सीनियर एसपी के निर्देश पर प्राथमिकी भी दर्ज

कराई गई थी लेकिन जब जांच हुई तो जिसका मोबाइल था वह रोहतास जिला का एक

दूधवाला निकला लेकिन क्या रंगदारी के पूरे मामले के पीछे क्या खेल है क्या? लड़का-

लड़की की नादानी है या बेवकूफी है खैर गलती तो कर दी लेकिन पूरे मामले के पीछे कई

सवाल तो उठ रहे हैं।

एसएसपी आशीष भारती ने यह जानकारी दी है। पुलिस टीम एसएसपी ने सिटी एसपी

सुशान्त कुमार सरोज के नेतृत्व में गठित की थी। जिसमें सिटी डीएसपी राजवंश सिंह,

कोतवाली इंस्पेक्टर अमर विश्वास, जोगसर इंचार्ज अजय कुमार अजनबी, जगदीशपुर

इंचार्ज ब्रजेश कुमार, दारोगा शिवनंदन सहनी, चन्द्रदीप कुमार और डीआईयू की टीम

शामिल थी।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

3 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!