Press "Enter" to skip to content

बिजली निगमों के मुख्यालयों और विद्युत उत्पादन केंद्रों पर प्रदर्शन







चंडीगढ़, : बिजली निगमों के मुख्यालयों और विद्युत उत्पादन केंद्रों पर प्रदर्शन विद्युत संशोधन

विधेयक के खिलाफ बिजलीअभियंता संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन 29 नवंबर को देश भर

के बिजलीनिगमों के मुख्यालयों और विद्युत उत्पादन केंद्रों पर प्रदर्शन करेंगे। यह जानकारी आल

इंडिया पॉवर इंजीनियर्स फेडरेशन (एआईपीईएफ) के प्रवक्ता वीके गुप्ता ने आज यहां दी। उन्होंने

बताया कि उपभोक्ताओं को कथित रूप से सस्ती व बेहतर सेवा के लिए अपना वितरक चुनने का

विकल्प देने के बहाने विधेयक का वास्तविक उद्देश्य बिजलीवितरण का निजीकरण करना है।

उन्होंने कहा कि असल में होगा यह कि बिजलीवितरण पर उस शहर या इलाके में चुने गये उस

आॅपरेटर का एकाधिकार हो जाएगा। एआईपीईएफ के अनुसार विधेयक औद्योगिक लॉबी और

निजी कंपनियों से चर्चा के बाद बनाया गया है कि बिजली वितरण नेटवर्क का निजीकरण किया जा

सके और सार्वजनिक संपत्तियां निजी कारोबारी घरानों को बेच दी जाएं।

बिजलीकर्मी 29 नवंबर को करेंगे विरोध प्रदर्शन

एआईपीईएफ की मांग है कि संसद में विधेयक पेश करने से पहले बिजलीउपभोक्ताओं और

कर्मचारियों को अपना नजरिया अभिव्यक्त करने का समुचित अवसर दिया जाना चाहिए। और यह

भी कि जल्दबाजी में विधेयक पारित करने के बजाय इसे संसद की ऊर्जा स्थायी समिति को रेफर

किया जाए। उन्होंने कहा कि देशभर के बिजली कर्मचारी और अभियंता विरोध कर रहे हैं क्योंकि

विधेयक जनविरोधी और कर्मचारी विरोधी है तथा यदि पारित हो गया तो उसके दूरगामी दुष्परिणाम

होंगे। उन्होंने कहा कि विधेयक से बिजलीवितरण कंपनियों में कार्यरत 25 लाख कर्मचारियों और

उनके परिवारों का भविष्य खतरे में पड़ जाएगा। बिजली वितरण इंफ्रास्ट्रक्चार 70 सालों में जनता

के पैसे से बनाया गया है, वह निजी वितरकों को सौंप दिया जाएगा जबकि उन्होंने कोई निवेश नहीं

किया। इससे धीरे-धीरे बिजली वितरण कंपनियां वित्तीय रूप से बीमार हो जाएंगी और उन्हें

कौड़यिों के मोल बेच दिया जाएगा। श्री गुप्ता ने बताया कि बिजली कर्मचारियों व अभियंताओं की

राष्ट्रीय समन्वय समिति 30 नवंबर को दिल्ली में एक बैठक करेगी जिसमें संसद के शीतकालीन

सत्र के दौरान आंदोलन के कार्यक्रमों पर चर्चा की जाएगी।



More from HomeMore posts in Home »
More from कामMore posts in काम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: