Press "Enter" to skip to content

कुरमी जाति को अनुसूचित जनजाति की सूची में शामिल करने की मांग







  • राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष से मिला कुरमी समाज के चार सांसद

रांची : कुरमी जाति और समाज के एक प्रतिनिधिमंडल कुरमी/कुड़मी(महतो) को अनुसूचित जनजाति की सूची में

शामिल करने की मांग को लेकर राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष नंद कुमार साय से

दिल्ली में मुलाकात किया।

प्रतिनिधिमंडल में गिरिडीह के सांसद चन्द्र प्रकाश चौधरी, जमशेदपुर के सांसद विधुतवरण महतो,

पुरूलिया के सांसद ज्योतिर्मय महतो, झाड़ग्राम के सांसद कुनार हेमरोम, कुरमी/कुड़मी विकास मोर्चा के

केन्द्रीय अध्यक्ष शीतल ओहदार, केन्द्रीय सचिव मोहन महतो, केन्द्रीय उपाध्यक्ष अनिल महतो,

रौशनलाल चौधरी, अजीत प्रसाद महतो, निपेन महतो, राजकुमार महतो आदि लोग शामिल थे।

शीतल ओहदार ने कहा कि कुरमी/कुड़मी(महतो) 1931 तक प्रमिट्रिव ट्राइब्स की सूची में शामिल थी

और संविधान के अनुच्छेद 342 के तहत 6 सितम्बर 1950 को बनी अनूसूचित जनजाति की सूची में कुरमी जाति / कुडमी (महतो) को शामिल किया जाना था

लेकिन एक साजिश के तहत अनुसूचित जनजाति की सूची में शामिल नही किया गया,

जिससे कुरमी/कुड़मी समाज अपने संवैधानिक अधिकार से वंचित रह गये।

इसलिए समाज अपनी खोई हुई पहचान व अस्तित्व के लिए लगातार संघर्ष कर रही है

इसी कड़ी में राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष नंद कुमार साय से

सार्थक वार्ता हुई है और मांग पत्र भी सौंपा गया है। श्री साय ने इस पर जल्द ही पहल करने का आश्वासन दिया!



Spread the love
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
    2
    Shares

Be First to Comment

Leave a Reply

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com