Press "Enter" to skip to content

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की अस्थियों की डीएनए जांच की मांग




कोलकाता : नेताजी सुभाष चंद्र बोस के निधन से जुड़े विवाद के बीच उनकी पुत्री अनिता बोस पाफ ने जापान के रेनकोजी मंदिर में रखी

अस्थियों की डीएनए जांच सुनिश्चित कराने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया ताकि उनके पिता की मौत के मामले की सच्चाई सामने आ सके।

इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि पिछली सरकारों में कुछ खास लोगों ने इस मामले की अनदेखी की

क्योंकि वे कभी नहीं चाहते थे कि रहस्य से पर्दा उठे।अनीता बोस ने

नेताजी सुभाष चंद्र बोसनेताजी की मृत्यु से जुड़े रहस्य को सुलझाने के प्रयासों के लिए

प्रधानमंत्री मोदी की सराहना की ।उन्होंने कहा कि जब तक कि कुछ और साबित नहीं हो जाता,

उन्हें लगता है कि उनके पिता की मृत्यु 18 अगस्त 1945 को विमान दुर्घटना में हुई थी।

उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री से व्यक्तिगत रूप से और जापानी अधिकारियों से भी मिलना चाहती हैं

ताकि रेनकोजी मंदिर में रखी अस्थियों के डीएनए परीक्षण की अनुमति के लिए अनुरोध कर सकें।

अनीता ने कहा, जब तक कुछ और साबित नहीं हो जाए, मुझे विश्वास है कि उनकी मृत्यु 18 अगस्त 1945 को विमान दुर्घटना में हुयी।

लेकिन बहुत लोग इसे नहीं मानते। मैं निश्चित रूप से चाहूंगी कि रहस्य सुलझ जाए।

मुझे लगता है कि रहस्य को सुलझाने का सबसे अच्छा तरीका जापान में मंदिर में रखी अस्थियों का डीएनए परीक्षण करना है।

डीएनए परीक्षण से सच साबित हो जाएगा।उन्होंने कहा कि वह केंद्र सरकार के पास रखी गई

फाइलों को सार्वजनिक करके रहस्य को सुलझाने के प्रयासों को लेकर धन्यवाद देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी से मिलना चाहेंगी।

उन्होंने कहा कि वह जापानी अधिकारियों से भी अनुरोध करेंगी कि

अगर उनके पास नेताजी से जुड़ी कोई फाइल है तो वे उसे सार्वजनिक करें।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत को लेकर परस्पर विरोधी अनेक तथ्य हैं।

इस लिहाज से उनकी मौत वाकई विमान दुर्घटना में हुई थी, इस बात पर भी अनेक लोगों को संदेह है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
More from Hindi NewsMore posts in Hindi News »

Be First to Comment

Leave a Reply