fbpx Press "Enter" to skip to content

दिल्ली पुलिस ने शाहीन बाग को अंततः खाली कराया

नयी दिल्ली : दिल्ली पुलिस ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में

शाहीनबाग में तीन महीने से अधिक समय से चल रहे धरना प्रदर्शन पर बड़ी कार्रवाई

करते हुये मंगलवार की सुबह प्रदर्शन स्थल को खाली करा लिया। दक्षिण पूर्वी दिल्ली के

उपायुक्त ने बताया कि दिल्ली में कोरोना वायरस (कोविड 19) के मद्देनजर लॉकडाउन

को देखते हुये प्रदर्शनकारियों से धरना स्थल को खाली करने का आग्रह किया गया था।

लेकिन उन्होंने मना कर दिया। पुलिस ने कार्रवाई करते हुये उन्हें वहां से हटा दिया।

कुछ प्रदर्शनकारियों को हिरासत में भी लिया गया है। शाहीन बाग में सीएए के विरोध में

15 दिसंबर से धरना प्रदर्शन चल रहा था। पुलिस उपायुक्त ने बताया कि कोरोना

वायरस को देखते हुये दिल्ली में लॉकडाउन लागू किया गया है और धारा 144 लगायी

है। उन्होंने कहा कि संक्रमण के डर से प्रदर्शनकारियों को शाहीन बाग से हटाया गया है।

धरना स्थल प्रदर्शनकारियों के टेंट वगैरह भी हटा दिये गये है। इसके अवाला पुलिस ने

उत्तर पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद में भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये है। गौरतलब है

कि पिछले माह सीएए के विरोध में इलाके में कई जगह हिंसा प्रदर्शन हुये थे। जिसमें 50

से अधिक लोगो जान चली गयी थी। कोरोना वायरस से देश में नौ लोगों की मौत हो

चुकी है और 492 लोग इस महामारी से संक्रमित है।

दिल्ली पुलिस ने इससे पहले वार्ता भी की थी

शाहीन बाग को खाली कराने के मुद्दे पर देश के राजधानी की पुलिस ने पहले भी

आंदोलनकारियों से वार्ता की थी। तब भी यह बात सभी पक्षों से निकल कर आयी थी

कि कोरोना के प्रभाव को देखते हुए फिलहाल देश में कहीं भी ऐसे आंदोलनों का औचित्य

नहीं है। इसके बाद भी आंदोलनकारी दो दिनों तक सांकेतिक रुप से यहां धरना देते रहे।

इन धरनों में सिर्फ पांच महिलाएं ही शामिल हुआ करती थी। शेष महिलाओं ने अपने

समर्थन के लिए वहां चौकियों पर अपने चप्पल छोड़ रखे थे।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat