Press "Enter" to skip to content

दिल्ली के आस पास के इलाकों में भारत बंद का व्यापक प्रभाव




राजधानी के करीब आंदोलन का व्यापक प्रभाव
हमने कोई रास्ता सील नहीं किया है: टिकैत
दिल्ली के रास्ते में कई किलोमीटर जाम
एक साल पूरे होने पर मनायी गयी बरसी

नयी दिल्ली: दिल्ली के आस पास के इलाकों में आज भारत बंद का ज्यादा असर नजर आया। केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानून का विरोध कर रहे किसान संगठनों का भारत बंद अभियान सुबह 6:00 बजे शुरू हुआ, जिसके चलते कई जगह से यातायात में रुकावट की सूचना मिली।




किसान संगठनों के भारत बंद के मद्देनजर उत्तर प्रदेश से दिल्ली में गाजीपुर बॉर्डर की ओर से प्रवेश करने वाला यातायात रोका गया है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लाल किला क्षेत्र के आसपास चौकसी बढ़ा दी गई है और उधर जाने वाले कुछ रास्तों को बंद कर दिया गया है।

इस बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने एक बयान में कहा कि एंबुलेंस, डॉक्टर और आपातकालीन कारण से यात्रा करने वालों को गुजरने दिया जाएगा। हमने कोई रास्ता सील नहीं किया है। हम केवल एक संदेश देना चाहते हैं।

हम दुकानदारों से अपील करते हैं कि वे अभी अपनी दुकानें बंद रखें और 4:00 बजे के बाद खोलें। वहीं, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने किसानों के आंदोलन के समर्थन में ट्विटर पर लिखा किसानों का अहिंसक सत्याग्रह आज भी अखंड है, लेकिन शोषण- कार सरकार को यह नहीं पसंद है….।

गौरतलब है कि करीब 40 संगठनों के संयुक्त किसान मोर्चे ने सोमवार सुबह 6:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक देशभर में जगह-जगह धरने और प्रदर्शन का ऐलान किया है।

कांग्रेस और कुछ अन्य विपक्षी दलों ने किसानों के भारत बंद का समर्थन किया है। वहीं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान से आंदोलन का रास्ता छोड़कर बातचीत से मुद्दे का समाधान निकालने की अपील की है।

किसानों के आज के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर जगह- जगह यातायात बाधित होने की आशंका है। हरियाणा, उत्तर प्रदेश तथा दिल्ली सहित कई अन्य राज्यों की पुलिस ने स्थिति से निपटने के लिए विशेष प्रबंध किए हैं।

दिल्ली के आस पास के राज्यो में बंद ज्यादा असरदार

पंजाब, उत्तरप्रदेश और हरियाणा जैसे राज्यों में बंद का जबर्दस्त प्रभाव रहा। इन राज्यों से दिल्ली के प्रवेश मार्गों पर आंदोलनकारियों के होने की वजह से सड़क पर जाम जैसी स्थिति रही।




खास तौर पर दिल्ली के प्रवेश मार्गों पर तो कई किलोमीटर लंबा जाम लग गया था। बंद की अवधि समाप्त होने के बाद यह जाम अपने आप ही घटकर खत्म हो गया।

इस दौरान दिल्ली की सीमा पर पुलिस ने सुरक्षा के खास इंतजाम किये थे। इसमें कहीं से किसी अप्रिय घटना की कोई सूचना नहीं है।

दूसरी तरफ भाजपा शासित राज्यों मसलन मध्यप्रदेश और गुजरात में इस भारत बंद का कोई खास प्रभाव नहीं पड़ा।

पश्चिम बंगाल, बिहार और बंद का समर्थन करने वाले दक्षिण भारतीय राज्यों में बंद प्रभावशाली रहा। इन राज्यों में सरकार द्वारा बंद का समर्थन करने की घोषणा किये जाने की वजह से सड़कों पर वैसे ही यातायात कम था।

सिंधु बॉर्डर पर किसान का दिल का दौरा पड़ने से मौत

नयी दिल्ली : भारत बंद के दौरान राजधानी दिल्ली-हरियाणा के सिंधु बॉर्डर पर सोमवार को आंदोलनकारी एक किसान की दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु हो गई।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि मृतक का नाम बघेल राम (55) है। वह पंजाब में जालंधर का निवासी था। उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया पीड़ित की मृत्यु का कारण हृदय गति रुकना (हार्ट अटैक) माना जा रहा है लेकिन पोस्टमार्टम के बाद उसके मौत के वास्तविक कारणों का पता लग पाएगा।

इस संबंध में जरूरी कानूनी कार्यवाही की जा रही है। एक आंदोलनकारी किसान ने बताया कि बघेल राम सिंधु बॉर्डर पर कई महीने से धरने पर बैठा था।



More from कृषिMore posts in कृषि »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: