fbpx Press "Enter" to skip to content

हिरन का शिकार कर मांस बेचने के फिराक में थे शिकारी, गिरफ्तार

बगहाः हिरन का शिकार किया था। इस शिकार का मकसद था उसका मांस ऊंची कीमत

पर बेचना। इसी सूचना के आधार पर वन विभाग के लोगों ने छापा मारकर शिकारियों को

रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया है। वाल्मीकि टाइगर रिजर्व के कक्ष संख्या एम-22 में

शिकारियों के द्वारा बड़ी वारदात को अंजाम दिए जाने की सूचना प्राप्त हुई थी। वन

प्रमण्डल-2 के वन पदाधिकारी महेश प्रसाद ने बताया कि उत्तरप्रदेश से सटा वीटीआर

जंगल के कक्ष संख्या एम-22 में गश्ती के दौरान शिकारियो को हिरण का शिकार करते रंगे

हाथ गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गए अपराधियों में एक अपराधी की पहचान

उत्तरप्रदेश के बरवा द्वारिका सिसवा बाजार थाना महराजगंज निवासी रमेश सिंह के रूप

में हुई है। अन्य शिकारियों के विषय मे हुई निशानदेही के आधार पर वाल्मीकिनगर थाना

निवासी रोहुआ टोला के अनिल कुमार सिंह, राजन कुमार व प्रदीप कुमार बताए जा रहे हैं।

सूत्रों की माने तो वृहस्पतिवार की शाम वीटीआर के कक्ष संख्या एम-22 एसएसबी झंडू

टोला से करीब तीन किलोमीटर दूर सिरला जंगल मे वनकर्मियों ने गश्ती के दौरान

शिकारियों को हिरण के शिकार करने के बाद उसके टुकड़े करते समय दबोच लिया गया।

बरामद हिरण को देखने से ऐसा लगता है कि चार गोलियां मारी गई है ।

हिरन सहित अन्य जंगली जानवरों का होता है शिकार

सिरला जंगल गंडक नदी से और उत्तरप्रदेश की सीमा से सटे होने की वजह से शिकारियों

की नज़र वीटीआर के जंगली जानवरों पर लगी रहती है । शिकारी हिरण, जंगली सुअर,

बाघ व दूसरे अन्य जंगली जानवरों सहित वन पक्षियों के फिराक में लगे रहते है और मौका

मिलते ही इनका शिकार कर लेते हैं। शिकारी इनका शिकार मांस व चमड़े के लिए करते हैं।

जानकारों के मुताबिक इनके मांस व चमड़े अंतराष्ट्रीय बाजार में ऊंचे दामों में बिकते हैं।

मांसाहार के शौकीन इसके क्रेता होते हैं जबकि चमड़ा सहित अन्य अंगों को दूसरे तस्करों

को बेच दिया जाता है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from बिहारMore posts in बिहार »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: